J&K: सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, पुलवामा एनकाउंटर में मूसा के बाद मुखिया बने हमीद ललहारी ढेर

नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में सुरक्षाबलों को एक बड़ी सफलता मिली है. दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले में मंगलवार को चार घंटे चली मुठभेड़ में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के तीन दहशतगर्दों को सुरक्षा बलों ने मार गिराया.

मारे गए आतंकियों की शिनाख्त नावेद टाक, हामिद लोन उर्फ हामिद ललहारी और जुनैद भट्ट के तौर पर हुई है. इनसे भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद किया गया है.

ललहारी (Lalhari) को जाकिर मूसा (Zakir Musa) के मारे जाने के बाद से गजवत-उल-हिंद का प्रमुख बनाया गया था. जून 2019 में अल-कायदा से संबद्ध अंसार गजवत-उल-हिंद ने हमीद लेलहरी को अपने स्थानीय कमांडर के रूप में नियुक्त किया था.

जाकिर मूसा 27 जुलाई 2017 से कश्मीर में अल-कायदा की इकाई आंसर का प्रमुख था. वह इससे पहले 2016 में बुरहान वानी (Burhan Vani) की हत्या के बाद हिजबुल मुजाहिदीन का प्रमुख था.

कश्मीर जोन पुलिस ने न्यूज एजेंसी को बताया कि जिन तीन आतंकियों को ढेर किया गया है उनके नाम नवीद ताक, हमीद लोन उर्फ हामिद लल्हारी और जुनैद भट्ट है. लल्हारी को मूसा के मारे जाने के कमांडर बनाया गया था.

अलकायदा की कश्मीर इकाई अंसार गजवत उल हिन्द का तथाकथित प्रमुख जाकिर मूसा को इसी साल मई के महीने में सुरक्षाबलों ने ढेर कर दिया था. मूसा दक्षिण कश्मीर के त्राल में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था.

खुफिया सूचना के आधार पर सेना, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और पुलिस के विशेष अभियान समूह ने संयुक्त अभियान छेड़ा था. सुरक्षा बल के जवान इलाके की घेराबंदी कर रहे थे, तभी आतंकवादियों ने स्वाचालित हथियारों से उन पर गोलीबारी शुरू कर दी.

इससे पहले 16 अक्तूबर को अनंतनाग (Anantnag) के बिजबिहाड़ा में सुरक्षा बलों ने लश्कर-ए-ताइबा के तीन स्थानीय आतंकियों को ढेर किया था. छह घंटे से अधिक समय तक चली इस मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकी हाल ही में आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन छोड़कर लश्कर-ए-ताइबा में शामिल हुए थे. तीनों पिछले करीब दो वर्षों से इलाके में सक्रिय थे.

Leave a Comment

%d bloggers like this: