युवराज सिंह ने वर्ल्ड कप में भारत की हार पर दिया बयान, कहा- कार्तिक के साथ हुई नाइंसाफी

खेल डेस्क. युवराज सिंह लिमिटेड ओवर क्रिकेट का वो खिलाड़ी जिसकी कमी टीम इंडिया को आज भी महसूस होती है. युवराज की अहमियत का अंदाजा इस बात से आसानी से लगाया जा सकता है कि उनके जाने के बाद कोई भी बल्लेबाज टीम इंडिया में उनकी जगह नहीं ले सका.

युवराज सिंह न सिर्फ क्रिकेट इतिहास के सबसे अटैकिंग बल्लेबाजों में गिने जाते हैं बल्कि उनके जैसा बाएं हाथ का स्टाइलिश बल्लेबाज दुनिया में कोई दूसरा नहीं हुआ हैं. इसकी एक वजह ये उनके पास जो नेचुरल बैट स्विंग था वो किसी और के पास नहीं.

आप सोचिए कि अगर युवराज सिंह का बल्ला साल 2007 के टी20 और 2011 के वर्ल्ड कप में आग न उगलता तो क्या कभी भारत के खाते में 1983 के बाद कोई इतनी बड़ी उपलब्धि जुड़ पाती भले ही टीम का कप्तान कोई भी होता.

वर्ल्ड कप 2019 में टीम इंडिया की हार की वजह भी नंबर चार ही रही जिस पर कभी युवराज सिंह जैसे खिलाड़ी खेला करते थे. इस साल इंग्लैंड में बीते वर्ल्ड कप में टीम इंडिया को मिली हार की वजह यहीं थी उनके पास युवी जैसा कोई भरोसेमंद बल्लेबाज नहीं था.

इंडिया की हार पर युवी ने एक न्यूज चैनल से इंटरव्यू में बात करते हुए कहा कि असल में टीम को मिली हार टीम मैनजमेंट के पक्षपाती रवैये का नतीजा है. उनके इस बयान से ये साफ पता चलता है कि अगर टीम मैनजमेंट का सीनियर खिलाड़ियों के प्रति क्या रूख रहता है.

युवी ने टीम की हार पर बात करते हुए कहा कि किसी को नहीं पता कि कार्तिक जैसे खिलाड़ी के ऊपर पंत और शंकर जैसे खिलाड़ियों को क्यों तरजीह दी गई. उन्होंने कहा कि कार्तिक को सीधे वर्ल्ड कप सेमीफाइनल से पहले बाकि युवा खिलाड़ियों की तरह मौके नहीं दिए गए.

युवी ने कहा कि ये बात मेरी समझ के परे है कि कार्तिक जैसे अनुभवी खिलाड़ी को सीधे वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में सबसे ज्यादा प्रेशर सिचुएशन में अकेला छोड़ा दिया गया जबकि पूरे टूर्नामेंट में कार्तिक को बल्लेबाजी का मौका ही नहीं मिला.

युवी ने कहा कि इंग्लैण्ड में नंबर चार की अहमियत ओर बढ़ जाती है. लेकिन कार्तिक को तकनीकी रूप से मजूबत होने के बाद भी ज्यादातर मैचों में बाहर बिठाए रखा गया और उन्हें सेमीफाइनल जैसे मैच में बलि का बकरा बना दिया गया.

युवराज सिंह के इस बयान से साफ पता चलता है कि कार्तिक के साथ पूरे करिअर में किस तरह का दोहरा रवैया अपनाया गया. इसके साथ ही युवराज ने इस बात का भी जिक्र किया कि अगर आप प्लेयर का साथ नहीं देंगे तो इसका खामियाजा आपको भुगतना पड़ेगा.

Leave a Reply

%d bloggers like this: