योशिहिदे सुगा बने जापान के नए पीएम, कोरोनाकाल में अर्थव्यवस्था को संभालना है मुख्य चुनौती

Yoshihide Suga
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

योशिहिदे सुगा ने आज (बुधवार को) जापान के नए प्रधानमंत्री के तौर पर कार्यभार संभाल लिया है. तकरीबन 8 साल बाद शिंजो आबे की जगह कोई अन्य नेता जापान का प्रधानमंत्री बना हो. और ये भी सिर्फ इसलिए संभव हो सका क्योंकि शिंजो आबे ने अपने स्वास्थ्य कारणों के चलते इस्तीफा दे दिया था.

योशिहिदे सुगा को सोमवार को जापान की सत्तारूढ़ पार्टी का नया नेता चुना गया था. सत्तारूढ़ पार्टी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के उत्तराधिकारी को चुनने के लिए हुए आंतरिक मतदान में सुगा को सत्तारूढ़ लिबरल डेमाक्रेटिक पार्टी में 377 प्राप्त हुए थे. जबकि अन्य दो दावेदारों को 157 वोट हासिल हुए थे.

बता दें कि शिंजो आबे ने पिछले महीने स्वास्थ्य कारणों के कारण अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. जिसके बाद से ही आबे के करीबी माने जाने वाले सुगा की जीत तय मानी जा रही थी क्योंकि लिबरल डेमोक्रेटस का सत्तारूढ़ गठबंधन में बहुमत है.

सुगा के सामने चुनौतियां

योशिहिदे सुगा के सामने अब कई चुनौतियां आने वाली हैं. उन्हें ऐसे समय में प्रधानमंत्री का पद मिला है, जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस के कहर से कराह रही है. मौजूदा समय में जापान की अर्थव्यवस्था कोरोना के कारण अपने सबसे खराब दौर से गुजर रही है.

ऐसे में सुगा के सामने दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था को सुचारू रूप से खड़ा रखना एक बड़ी चुनौती बनकर उभरेगा. इसके अलावा उनकी सबसे बड़ी चिंता ग्रामीण क्षेत्रों में जनसंख्या ह्रास का मुद्दा है, जिसपर वह प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के बाद कार्य कर सकते हैं.

सुगा ने कहा है कि उनकी शीर्ष प्राथमिकताएं कोरोना वायरस से लड़ाई लड़ना और इस महामारी से प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाना है. उनका कहना है कि वह एक सुधारवादी हैं और उन्होंने नौकरशाही की क्षेत्रीय बाधाओं को तोड़ कर नीतियां हासिल करने का काम किया है.