नई दिल्ली. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने राज्य में गिरती कानून व्यवस्था को लेकर नाराजगी जताते हुए तमाम अधिकारियों को फटकार लगाई. महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों के कारण सरकार विपक्ष के निशाने पर है. योगी मुख्य सचिव, सभी जिलों के डीएम और एसपी के साथ बैठक कर रहे हैं.

सबसे खास बात ये कि किसी भी अधिकारी को मीटिंग में मोबाइल फोन (Mobile Phone) नहीं ले जाने दिया गया है. सभी का फोन बाहर रख लिया गया है. प्रमुख सचिव हो या डीएम या फिर SSP, सभी के मोबाइल सभागार के बाहर ही जमा करा लिए गए हैं. बैठक से पहले फोन जमा कराए गए.

योगी ने अधिकारियों पर नाराजगी जताते हुए निर्देश दिए हैं कि संवेदनशील मामलों को सही ढंग से हैंडल किया जाए.

इससे पहले सोमवार को सीएम योगी ने महिला सुरक्षा के मुद्दे पर उच्चस्तरीय बैठक ली थी. इस बैठक में चीफ सेक्रेटरी, प्रमुख सचिव गृह, डीजीपी, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर, एडीजी महिला सम्मान प्रकोष्ठ शामिल हुए. इस दौरान सीएम योगी अलीगढ़ हत्याकांड पर अधिकारियों से जवाब तलब किया.

CM योगी ने लोक भवन में आयोजित बैठक में प्रदेश के सभी मंडलायुक्तों और नगर आयुक्तों के साथ शहरों की सफाई, पॉलीथिन पर रोक, नगरीय क्षेत्र में गोवंश संरक्षण, स्मार्ट सिटी मिशन, अमृत मिशन, शहरों में नालों को टैप किए जाने की प्रगति, एसटीपी के निर्माण की प्रगति और नमामि गंगे परियोजनाओं की समीक्षा की.

योगी आदित्यनाथ के लिए ये बैठक कितनी अहम है इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बैठक में पूरी तरह से मोबाइल प्रतिबंधित है.

1 COMMENT

Leave a Reply