यमन में कोरोना से पहली मौत, अबतक 6 मामले आये सामने

(file photo)
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

यमन के स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोनोवायरस से पहली दो मौतों की जानकारी दी है. यमनी अधिकारियों ने अबतक कोरोनावायरस के 6 पुष्ट मामलों की भी सूचना दी, युद्धग्रस्त देश ने पहली बार कई मामलों की सूचना दी है. संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि यह डर है कि यह बीमारी ऐसे देश में फैल सकती है जहां लाखों लोग अकाल का सामना करते हैं और चिकित्सा देखभाल की कमी है.

संयुक्त राष्ट्र ने यमन में लोगों को चेतावनी दी है कि वे विशेष रूप से कोरोनोवायरस की चपेट में हैं. यमन के लंबे समय से चले आ रहे संघर्ष ने देश के लाखों लोगों को अकाल और कोरोनोवायरस के प्रति संवेदनशील बना दिया है.

अलगाववादी दक्षिणी संक्रमणकालीन परिषद (एसटीसी) ने दक्षिण में आपातकालीन शासन की घोषणा की, जिसमें सरकार के साथ संघर्ष को नवीनीकृत करने की धमकी दी गई. यमन ने पहले कोरोनावायरस मामले की पुष्टि के बाद 24 घंटे कर्फ्यू लगा दिया था.

अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने लंबे समय से चेतावनी दी है कि यमन की आबादी प्रकोप के लिए बेहद संवेदनशील हो सकती है, जो कि ऐसे देश में पता लगाना मुश्किल होगा जहां युद्ध के वर्षों से स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचा है.

यूएन के अनुसार, 3.5 मिलियन से अधिक आंतरिक रूप से बाहर से आये हुए लोग , शरणार्थी और शरण चाहने वाले अब जीवित रहने के लिए नियमित किसी की सहायता पर निर्भर हैं. यमन की लगभग 80 प्रतिशत आबादी, या 24 मिलियन लोग, सहायता पर निर्भर हैं, और 10 मिलियन अकाल का सामना कर रहे हैं.

हिन्दुस्थान समाचार / राधा तिवारी