#WORLD HERITAGE DAY : आज निकलिए घर से बाहर, घूमें ये हेरिटेज जगहें…मिल रही फ्री एंट्री
  • आज वर्ल्ड हेरिटेज डे के मौके पर आपको देश के हैरिटेज में फ्री एंट्री मिलेगी
  • घूमने के लिए आपको किसी तरह की फीस नहीं देनी होगी

उठिए और घर से बाहर निकलिए. आज लाल किला, कुतुब मीनार, ताज महल, हुमायूं का मकबरा जैसे एतिहासिक स्थल का रूख जरूर करें. आज आप भी किसी एतिहासिक स्थल पर जाने का प्लान बना रहे हैं तो आज का दिन आपके लिए खास है.

आज वर्ल्ड हेरिटेज डे के मौके पर आपको देश के हैरिटेज में फ्री एंट्री मिलेगी. यहां घूमने के लिए आपको किसी तरह की फीस नहीं देनी होगी. आज वर्ल्ड हेरिटेज डे पर विश्व भर के सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थलों को विरासतों के रूप में सुरक्षित और संरक्षित रखने का दिन है.

स्मारकों के लिए खास दिन

यूनेस्को हर साल आज यानी 18 अप्रैल को वर्ल्ड हेरिटेज डे मनाता है. आज के दिन लोगों को हमारे देश में मौजूद ऐतिहासिक धरोहरों के बारे में बताया जाता है.

इस दिन के जरिए कोशिश होती है कि आने वाली पीढि़यों के लिए इन धरोहरों को बचा कर रखा जाए, ताकि वो भी देश के कल्चर को करीब से समझ सकें.

ASI ने दी छूट

भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण विभाग (Archaeological Survey of India, ASI) की वेबसाइट पर इस संबंध में जानकारी अपडेट की गई है. वेबसाइट के अनुसार 18 अप्रैल को देश के ऐतिहासिक स्मारकों यानी हिस्टॉरिकल मॉन्यूमेंट्स को देखने के लिए कोई शुल्क या टिकट नहीं खरीदना होगा.

इस दिन सभी पर्यटक फ्री में एंट्री कर सकेंगे. आम दिनों में यहां एंट्री टिकट खरीदना पड़ता है, जिनकी कीमत अलग-अलग है. ASI की यह सुविधा आगरा, भुवनेश्वर, बैंगलोर, औरंगाबाद, भोपाल, चेन्नै, चंडीगढ़, दिल्ली, धारवाड़ और गोवा में बने स्मारकों के लिए है.

1982 में हुइ शुरुआत

वर्ल्ड हेरिटेज डे की शुरुआत 1982 में हुई थी. इस दिन को मनाने की मान्यता 1983 में यूनेस्को ने दी. इसके बाद से विश्व भर में हर साल एतिहासिक धरोहरों को बचाने और जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से इस दिन को मनाया जाता है.

भारत के 37 हैरिटेज

भारत में एतिहासिक इमारतों की भरमार है. यूनेस्को की हेरिटेज साइट में भारत के 37 साइट शामिल हैं. धीरे-धीरे सालों में इन धरोंहरों में बढोतरी हुई है. वहीं भारत का ताजमहल यूनेस्को के सैवन वंडर्स में शामिल है.

Trending Tags- Aaj ka samachar, Taj mahal, Heritage sites, World heritage day 2019, World heritage india, World heritage sites

%d bloggers like this: