#BeatAirPollution: जानिए क्यों मनाया जाता है ‘विश्व पर्यावरण दिवस’? क्या है इस साल की थीम…

  • विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है
  • पर्यावरण दिवस या ईको डे भी कहा जाता है. प्रकृति को सुरक्षित रखने के लिए हर साल 5 जून को ये दिन मनाया जाता है

नई दिल्ली. हर साल पूरी दुनिया में पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है. इस बार विश्व पर्यावरण दिवस 2019 की थीम है Beat Air Pollution.

विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है. इस दिवस को मनाने का ऐलान संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनीतिक और सामाजिक जागृति लाने के लिए साल 1972 में किया गया था.

world enviroment day

दो साल बाद, 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया था. तब से ही हर साल इसकी एक थीम चुनी जाती है और एक देश इसकी मेजबानी करता है. 1974 में इसकी थीम ‘Only The Earth’ यानि ‘केवल धरती’ थी.

इसे पर्यावरण दिवस या ईको डे भी कहा जाता है. प्रकृति को सुरक्षित रखने के लिए हर साल 5 जून को ये दिन मनाया जाता है. इसे 5 जून से 16 जून तक संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद शुरू किया गया था.

पर्यावरण को रहा है लगातार नुकसान- पर्यावरण जिंदगी का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है. इसके बिना जीवन की कल्पना करना बहुत नामुमकिन है, लेकिन आज हम अपने पर्यावरण को लगातार नुकसान पहुंचा रहे हैं.

अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए हम प्रकृति की चीजों का ज्यादा और गलत इस्तेमाल कर रहे हैं, जिससे प्रकृति दिन- प्रतिदिन दूषित होती जा रही है. लोगों में इसी के प्रति जागरूकता फैलाने और पर्यावरण को बचाने के लिए हर साल विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है.

पहले पर्यावरण दिवस पर भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भारत की प्रकृति और पर्यावरण के प्रति चिंताओं को जाहिर किया था. उन्होंने ‘पर्यावरण की बिगड़ती स्थिति एवं उसका विश्व के भविष्य पर प्रभाव’ विषय पर व्याख्यान देते हुए प्रकृति और पर्यावरण संरक्षण को लेकर भारत की दृष्टि और प्रतिबद्धता पर अपने विचार रखे थे.

लोगों को किया जाता है जागरुकहर साल पर्यावरण दिवस पर लोगों को बिगड़ते पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन के प्रति जागरूक किया जाता है. इस बार पर्यावरण दिवस की थीम ‘वायु प्रदूषण’ रखी गई हैं. लगातार बढ़ते प्रदूषण के कारण कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. आगे चलकर इस वजह से गंभीर बीमारियां होने की संभावना भी बनी रहती है.

इम्यूनिटी रखें मजबूत- प्रदूषण से बचने के लिए जरूरी है, मजबूत इम्यूनिटी. प्रदूषण के कारण बने फ्री-रेडिकल्स को रिमूव करने के लिए बॉडी का डिटॉक्सीफिकेशन होना जरूरी है. ये तभी होता है, जब डाइजेस्टिव सिस्टम अच्छी तरह काम करता है.

आयुर्वेद के अनुसार डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक होगा तो शरीर में त्रिदोष-वात, पित्त और कफ कम होंगे. पाचन प्रक्रिया सुचारू रूप से चलेगी और खांसी-जुकाम, सांस लेने में दिक्कत भी नहीं होगी.
वातावरण में फैले प्रदूषण का सामना करने और इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए आयुर्वेद में अदरक, लहसुन, तुलसी, नीम, काली मिर्च, पिपली जैसे खाद्य का सेवन करने की सलाह दी जाती है.

कैसे हुई थी विश्व पर्यावरण दिवस की शुरुआत? दिन प्रतिदिन पर्यावरण की स्थिति खराब होती जा रही है इस देखते हुए वर्ष 1972 में संयुक्त राष्ट्र संघ की जनरल असेंबली द्वारा इसकी शुरुआत की गई थी. इसकी घोषणा मानव पर्यावरण पर शुरु हुए सम्मेलन में की गई थी.

Trending Tags- Best Air Pollution 2019 | Beat Air Pollution World Environment Day | Aaj ka Saamchar

1 thought on “#BeatAirPollution: जानिए क्यों मनाया जाता है ‘विश्व पर्यावरण दिवस’? क्या है इस साल की थीम…”

Leave a Reply

%d bloggers like this: