विश्व कप में होगा विजय शंकर की काबिलियत का असल इम्तहान

  • विजय शंकर को विश्व कप टीम में शामिल किया जाना उनके लिए किसी सपने के सच हो जाने जैसा ही है
  • विजय शंकर विश्व कप में बढ़िया प्रदर्शन नहीं कर सके तो टीम चयनकर्ताओं के साथ कप्तान कोहली को भी किरकरी झेलनी पड़ेगी

खेल डेस्क. युवा ऑलराउंडर विजय शंकर क्रिकेट विश्व कप में भारतीय टीम के लिए तुरूप का इक्का माने जा रहे हैं. इसकी एक वजह यह है कि शायद ही किसी खिलाड़ी को इतने कम समय में विश्व कप जैसे मंच पर अपनी काबिलियत दिखाने का मौका दिया गया हो.

विजय शंकर को विश्व कप टीम में शामिल किया जाना उनके लिए किसी सपने के सच हो जाने जैसा ही है. विजय शंकर को टीम में नंबर 4 पर अंबाती रायडू की जगह तरजीह दी गई है. जिन्होंने किसी भी लिहाज से खराब प्रदर्शन नहीं किया है.

यह बात अलग है कि उनकी पिछली कुछ पारियों को छोड़ दिया जाएं तो वो ज्यादा असरदार साबित नहीं हुए है. वहीं जब रायडू को दरकिनार कर विजय को टीम में जगह दी गई तो इस पर बवाल होना भी तय है.

अगर विजय शंकर विश्व कप में बढ़िया प्रदर्शन नहीं कर सके तो टीम चयनकर्ताओं के साथ कप्तान कोहली को भी किरकरी झेलनी पड़ेगी. इसलिए विजय शंकर के ऊपर न सिर्फ मानसिक दबाव होगा बल्कि टीम की उम्मीदों का भार भी उनके कंधो पर रहेगा. ऐसे में यह देखने वाली बात होगी कि विजय शंकर कैसा खेल दिखायेंगे.

इसमें कोई दोराय नहीं है कि विजय शंकर एक बढ़िया बल्लेबाज है. वहीं वो जरुरत पड़ने पर टीम के लिए उपयोगी गेंदबाज भी साबित हो सकते है. इसके साथ वो एक उम्दा फील्डर भी है. भारतीय टीम के चीफ सेलेक्टर एम.एस के प्रसाद ने विजय को ‘थ्री डायमेंशनल’ क्रिकेटर कहा. जो नंबर चार पर बल्लेबाजी कर सकता है.

जिसके पास अटैक और डिफेंस का बेहतरीन कॉम्बिनेशन है और अपनी गेंदबाजी से टीम को अहम मौकों पर विकेट दिला सकता है. शंकर ने कहा कि मैं अपने खेल के हर विभाग में लगातार मेहनत करता रहूंगा. जब भी मौका मिलेगा टीम के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगा. अगर मैं टीम के लिए एक भी मैच जीता पाया हूं तो मुझे बेहद खुशी होगी.

भारतीय टीम को लंबे समय से नंबर चार की पॉजिशन पर ऐसे होनहार खिलाड़ी की तलाश थी जो टीम को मजबूती दे सके. विजय शंकर में यू्ं तो वो सारी खूबियां शामिल है जो उन्हें मैच जिताऊ खिलाड़ी बनाती है.

लेकिन अभी यह देखना बाकी है कि शंकर प्रेशर सिचुएशन में टीम को जीत दिला पायेंगे या नहीं. हालांकि उन्होंने ने न्यूजीलैंड टूर पर कमाल की बल्लेबाजी की थी. वहीं आपको याद दिला दे कि शंकर निदहास ट्रॉफी के फाइनल में बांग्लादेश जैसी कमजोर टीम के खिलाफ मैच को अधर में छोड़कर चले गए थे.

उस मैच में उन्हीं की टीम के घरेलू साथी दिनेश कार्तिक ने आखिरी गेंद पर अविश्वसनीय छक्का जड़कर भारत को जीत दिलाई थी. दिनेश कार्तिक ने इस मैच में विजय शंकर को खलनायक बनने से तो बचा लिया था. लेकिन फिर भी विजय को मैच में खराब बल्लेबाजी करने के लिए सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया गया.

इसलिए विजय शंकर विश्व कप में अपने हुनर को दिखाने का मौका नहीं चूकना चाहेंगे. अगर इस बार विजय शंकर टीम के लिए बढ़िया खेल दिखाने में सफल रहे तो वो कोहली के सबसे विश्वसनीय खिलाड़ियों में से एक बन जाएंगे. विजय शंकर के पास इस बार मौका भी है और दस्तूर भी बस अब उन्हें कुछ ऐसा कर गुजरना है जो हर खिलाड़ी के लिए एक मिसाल बन जाएं.

Trending Tags- World Cup 2019 | World Live Score | World Cup 2019 Date | Sports News

%d bloggers like this: