शुभकामनाओं के साथ नए साल में ‘नायक’ की तरह उदयपुर के महापौर ने जारी की ये अपील

‘नायक’ की तरह उदयपुर के महापौर ने जारी की ये अपील | Samachar In Hindi
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
  • महापौर ने अपील की है कि जिन शहरवासियों का जिस भी तरह का टैक्स बकाया है, वह समय पर नगर निगम में जमा करा दें
  • महापौर ने हमारे संवाददाता से विशेष बातचीत में सिर्फ पांच बातों का जिक्र किया जिन पर वे फोकस करेंगे और शहरवासियों से भी आग्रह करेंगे कि वे शहर के विकास में अपनी स्वयं की भूमिका भी मजबूती से निभाएं

उदयपुर. उदयपुर शहरवासियों को नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ उदयपुर के महापौर गोविन्द सिंह टांक ने एक संजीदा आग्रह भी किया है जो हमें ‘नायक ’ फिल्म की याद दिला देता है. महापौर ने अपील की है कि जिन शहरवासियों का जिस भी तरह का टैक्स बकाया है, वह समय पर नगर निगम में जमा करा दें. 

महापौर ने हमारे संवाददाता से विशेष बातचीत में सिर्फ पांच बातों का जिक्र किया जिन पर वे फोकस करेंगे और शहरवासियों से भी आग्रह करेंगे कि वे शहर के विकास में अपनी स्वयं की भूमिका भी मजबूती से निभाएं.

उन्होंने आग्रह किया है कि मौजूदा समय में ट्रैफिक मैनेजमेंट सबसे बड़ी चुनौती है और इसके लिए सामान्य तौर पर वे यह अपील करते हैं कि चौराहों पर दूसरे वाहनों से आगे निकलने की होड़ न करें, एक के पीछे एक खड़े होंगे तो जल्दी निकलने के फेर में लगने वाले जाम से कुछ निजात मिल सकेगी. 

आपको बताते चलें कि उदयपुर के देहलीगेट चौराहे पर कलक्ट्रेट और शास्त्री सर्कल से आने वाले वाहनों के लिए बारी-बारी से हरी बत्ती जलती है, लेकिन कलक्ट्रेट की तरफ के वाहनों के लिए होने वाली हरी बत्ती में ही शास्त्री सर्कल की ओर से आने वाले वाहन भी अश्विनी बाजार की तरफ जाने की होड़ मचा लेते हैं और वहीं ब्रेक लगना, एक-दूसरे से टकराने की आशंका शुरू हो जाती है. इसे शहर के वाहन चालकों को भी समझना पड़ेगा. 

महापौर ने अपनी तीसरी अपील में शहर के पार्कों की बात की। पार्क भी वे जिन्हें संस्थाओं ने गोद ले रखा है. उन्होंने आग्रह किया कि वे संस्थाएं इन पार्कों की पूरी सेवा करें, सिर्फ बोर्ड लगा कर प्रचार के लिए गोद लेना उचित नहीं. 

चौथा आग्रह उन्होंने किया है कि निर्माण सामग्री को सडक़ पर न फैलाएं. यह एक व्यावहारिक समस्या है कि गली के अंदर ट्रैक्टर खाली नहीं हो सकता, लेकिन रेती-ईंट-गिट्टी यदि सुबह जल्दी खाली करा सकते हैं तो सुबह 8 बजे तक निर्माण सामग्री को अपने निर्माण स्थल तक ले जाने की व्यवस्था के बारे में भी सोचें. 

महापौर टांक का पांचवां आग्रह जनता से है कि जनता नगर निगम को सुझाव दे कि कहां पार्किंग स्थल बन सकता है. स्थल की जानकारी के बाद जरूरी नियम-कायदों के आधार पर जांच-पड़ताल करवाकर किसी तरह की अड़चन नहीं होने पर पार्किंग स्थल का विकास किया जाएगा. 

Hindi Samachar | समाचार | Udaipur News Today

हिन्दुस्थान समाचार/सुनीता/ ईश्वर