फिर भड़के ट्रंप, कहा चीन के लिए PR एजेंसी की तरह है डब्ल्यूएचओ

donald trump
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

कोरोना वायरस के बीच अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) पर निशाना साधा है. ट्रंप ने कहा कि डब्ल्यूएचओ चीन का हिमायती है क्योंकि वो चीन के लिए एक जनसंपर्क एजेंसी की तरह बन गई है. अब ट्रंप के इस बयान को लेकर सियासत और तेज हो गई है.

राष्‍ट्रपति ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा कि डब्ल्यूएचओ को शर्म आनी चाहिए, वो चीन के लिए जनसंपर्क एजेंसी की तरह का कर रहा है.

ट्रंप ने दोहराया कि अमेरिका, डब्ल्यूएचओ को एक साल में करीब 50 करोड़ डॉलर देता है जबकि चीन 3.8 करोड़ डॉलर देता है. उन्होंने कहा, “यह कम हो या ज्यादा, इससे फर्क नहीं पड़ता. उन्हें उस वक्त बहाने नहीं बनाने चाहिए जब लोग भयानक गलतियां करते हैं खासकर ऐसी गलतियां जिससे विश्व में लाखों लोगों की जान चली जाए.”

दरअसल ट्रंप प्रशासन ने कोरोना वायरस पर WHO की भूमिका की जांच शुरू की है और अस्थायी रूप से अमेरिका ने वित्तीय सहायता निलंबित कर दिया है.

राष्‍ट्रपति ट्रंप ने ये भी दावे किए हैं कि चीन अगर वक्त रहते कदम उठाता तो ये महामारी दुनिया में नहीं फैलती और मरने वालों की संख्या काफी कम होती. साथ ही अमेरिका हर साल डब्लूएचओ को 400-500 मिलियन डॉलर फंड देता है, जबकि चीन का योगदान 40 मिलियन डॉलर.

वहीं विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने भी आरोप लगाते हुए कहा है कि डब्ल्यूएचओ अपनी भूमिका में विफल रहा और उसने कोरोनावायरस पर विश्व को गुमराह किया.