Mamata Banerjee
Mamata Banerjee

पश्चिम बंगाल में हुई चुनावी हिंसा के विरोध में बीजेपी और टीएमसी अब आमने सामने आ गई हैं. चंडीगढ़ में बीजेपी प्रवक्ता शहनवाज हुसैन की आगवानी में पार्टी कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया. तो दिल्ली में केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन सिंह के नेतृत्व में मौन व्रत रखा गया.

ममता का पैदल मार्च

वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बेलियाघाट से श्यामबाजार तक पैदल मार्च निकाला. इससे पहले मता बनर्जी ने भी बीजेपी पर जमकर प्रहार किया है. ममता ने बीजेपी को चेतावनी देते हुए कहा कि आप लोगों का नसीब अच्छा है कि मैं यहां शांत बैठी हूं, वरना एक सेकेंड में दिल्ली में बीजेपी दफ्तर और तुम्हारे घरों पर कब्जा कर सकती हूं.

उन्होंने कहा कि अमित शाह क्या भगवान हैं, जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता है? ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा तोड़े जाने को लेकर ममता ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि अमित शाह इतने असभ्य हैं कि उन्होंने विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा तुड़वा दी. वे सभी बाहरी लोग हैं. उन्होंने बीजेपी पर फर्जी वोटिंग कराने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि बीजेपी मतदान वाले दिन के लिए उन्हें लाई है.

चुनाव आयोग हुआ सख्त

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में हिंसा की घटना को लेकर चुनाव आयोग ने सख्त रवैया अपनाया है. चुनाव आयोग ने राज्य की सभी 9 सीटों पर एक दिन पहले ही यानी गुरुवार रात 10 बजे से चुनाव प्रचार पर रोक लगाने का फैसला किया है.

आयोग ने कहा कि हिंसा की घटनाओं से हमें काफी दुख है. हमने पहली बार इस तरह से धारा 324 का इस्तेमाल किया है, लेकिन भविष्य में भी ऐसी घटनाएं हुईं तो हम फिर कदम उठाएंगे. आयोग ने सीआईडी के एडीजी, प्रधान सचिव और गृह सचिव को भी हटा दिया है.

शाह ने साधा निशाना

बीजेपी ने इस हिंसा के लिए टीएमसी को जिम्मेदार ठहराया है. शाह ने कहा कि हम शांति से रोड शो निकाल रहे थे, लेकिन तीन हमले हुए. उन्होंने कहा कि यदि सीआरपीएफ न होती तो मेरा बचकर आना नामुमकिन था. उन्होंने कहा कि मैं दीदी से अपील करता हूं कि अगर कुछ छिपाना नहीं है, तो किसी निष्पक्ष एजेंसी से जांच कराएं.