दिल्ली: 2024 तक गांधी के सपनों का देश बनेगा भारत- सुभाष घई

3 obtober
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

2024 तक गांधी के सपनों का देश बनेगा भारत
– डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में गांधी जयंती अवसर पर वेबीनार का आयोजन

गांधी जयंती के अवसर पर डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर (सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय) की ओर से एक वेबीनार का आयोजन किया गया. इस दौरान भारतीय सिनेमा के शोमैन कहे जाने वाले डायरेक्टर सुभाष घई की शॉर्ट फिल्म ‘गांधी-अ पर्सपेक्टिव’ वीडियो स्ट्रीमिंग के जरिए दिखाई गई.

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बारे में बताते हुए सुभाष घई ने बताया कि किस तरह से उन्होंने गांधीजी पर रिसर्च करके इस डॉक्यूमेंट्री को तैयार किया और इस देश के युवाओं को एक संदेश देने की कोशिश की कि गांधी हमारी रग-रग में बसते हैं. हम गांधी के बिना इस देश की कल्पना कर ही नहीं सकते हैं.

इस वेबीनार के दौरान जेएनयू के वाइस चांसलर प्रो. एम जगदीश कुमार ने भी गांधी के बारे में विचार रखे. उन्होंने कहा कि इस देश में आधुनिक तकनीकी के विकास को बढ़ावा देकर गांधी जी के सपनों का भारत बनाया जा सकता है. एक ऐसा भारत जिसमें सब के पास रोजगार हो, एक ऐसा भारत जो आत्मनिर्भर हो.

कार्यक्रम में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रतनलाल कटारिया ने सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया. उन्होंने अपने वक्तव्य में यह बात स्पष्ट करने की कोशिश की कि भारत सरकार प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में गांधी जी के सपनों का भारत बनाने के लिए और आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए कौन-कौन से प्रयास कर रही है.

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि 2024 तक गांधी जी के सपनों का भारत बनकर रहेगा और इसके लिए प्रधानमंत्री दिन-रात अथक प्रयास कर रहे हैं और उनके प्रयासों का फल अवश्य मिलेगा.

सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्रालय के एक उपकरण एनबीसीएफडीसी के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर के नारायण ने भी अपना वक्तव्य दिया. उन्होंने उनके द्वारा दूसरों की सहायता के लिए जो जो प्रोग्राम चलाए जा रहे हैं न केवल उनका विवरण दिया बल्कि उन्होंने गांधीजी और अंबेडकर जी के सपनों के भारत का एक चित्र भी प्रस्तुत किया.

कार्यक्रम का संचालन डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ देवेंद्र सिंह ने किया. इस दौरान मंत्रालय में अडिश्नल सेक्रेटरी उपमा श्रीवास्तव, सेंटर के डायरेक्टर विकास त्रिवेदी जी, डॉ. वरूण गुलाटी भी मौजूद रहे.