नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी को बड़ी झटका दिया है. कोर्ट ने लखनऊ की एक वक्फ संपत्ति कब्जाने व मुतवल्ली पर हमला करने के मामले में वसीम रिजवी को 15 दिनों में सरेंडर करने का आदेश दिया है.

जस्टिस इंदिरा बनर्जी और जस्टिस संजीव खन्ना की अवकाशकालीन पीठ ने इस मामले में आदेश जारी किया है.

इसी मामले में तीन मई को हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी पर लगी रोक के अपने पूर्व आदेश को वापस ले लिया गया था जिसके बाद रिजवी पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी. उन्होंने हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी.

ये मामला साल 2012 का है. लखनऊ की दरगाह हजरत अब्बास में नई कमेटी को प्रबंधन प्रभार सौंपने के दौरान हुई मारपीट और झगड़े का हैइस मामले में तीन मई को हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी पर लगी रोक के अपने पूर्व आदेश को वापस ले लिया था.

जिसके बाद रिजवी पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी. बाद में उन्होंने इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. हाल में हाई कोर्ट ने निचली अदालत की सुनवाई पर लगी रोक हटा दी थी जिसके बाद निचली अदालत ने रिजवी व अन्य के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था.