VIRAT KOHLI
VIRAT KOHLI

विश्व कप 2019 के लिए भारतीय टीम का ऐलान हो चुका है. जिसके बाद से ही एक नाम को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा हुई. जिसमें धोनी के बैकअप विकेटकीपर के रूप में 15 सदस्यीय टीम में युवा खिलाड़ी ऋषभ पंत की जगह अनुभवी दिनेश कार्तिक को तरजीह दी गई.

इस फैसले के बाद कई लोगों ने हैरानी जताई थी. ऋषभ पंत की पहचान आक्रामक बल्लेबाज़ की है लेकिन उन्हें विश्व कप में नहीं चुने जाने पर कई लोग सवाल उठा रहे थे. धोनी विश्व कप में पहले विकेट कीपर के तौर पर टीम में हैं.


इस मामले में सौरभ गांगुली जैसे दिग्गज ने भी कहा कि भारत को विश्व कप में 21 वर्षीय इस बाएं हाथ के विकेटकीपर बल्लेबाज की कमी खलेगी. इन्हीं सवालों के बाद ऋषभ पंत और अंबाती रायडू को विश्व कप टीम में अतिरिक्त खिलाड़ी के तौर पर शामिल किया गया था.


पंत के टीम से बाहर रहने पर सुनील गावस्कर ने हैरानी जताई थी. साथ ही गौतम गंभीर ने रायडू के बाहर रहने पर सवाल खड़ा किया था.

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पॉन्टिंग भी इस निर्णय पर हैरान नजर आए थे. पॉन्टिंग ने कहा कि पंत में एक्स फैक्टर है और उनके टीम में शामिल न होने से वह काफी हैरान हैं.

विराट कोहली ने एक इंटरव्यू में बताया की दबाव की स्थिति में दिनेश कार्तिक आत्मसंयम रखते हैं. यह ऐसी चीज़ है जिससे हर कोई सहमत था. उनके पास अनुभव है. अगर धोनी के साथ कुछ अनहोनी होती है तो ऐसी स्थिति में विकेट के पीछे दिनेश कार्तिक काफ़ी अहम साबित होंगे. एक फिनिशर के तौर पर भी वो काफ़ी बढ़िया हैं.

2004 में दिनेश कार्तिक ने अंतरर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलना शुरू किया था और उन्होंने भारत के लिए कुल 91 मैच खेले हैं. इन मैचों में दिनेश ने ख़ुद को साबित किया है कि वो किसी भी नंबर पर बढ़िया बल्लेबाज़ी कर सकते हैं. कार्तिक विकेटकीपिंग के अलावा सीमित ओवरों के क्रिकेट में एक फिनिशर के रूप में भी अपनी उपयोगिता साबित कर चुके

टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने कहा है कि जिन 15 लोगों को चुना गया है वो काफ़ी प्रतिभाशाली हैं. यह काम आसान नहीं था. कई लोग इस बात को मानते हैं कि कुछ योग्य लोग छूट गए हैं. हम उनकी भावनाओं को समझते हैं. लेकिन अनहोनी की स्थिति में इन्हें भी तैयार रहना है.

कई लोगों का कहना है कि विश्व कप में टीम इंडिया ऋषभ पंत की कमी महसूस करेगी. इंग्लैंड में 30 मई से क्रिकेट विश्व कप शुरू हो रहा है.