जानिए आपस में क्यों भिड़े तृणमूल के दो गुट

कोलकाता. कोलकाता के कालीघाट थाना अंतर्गत भवानीपुर क्षेत्र में तृणमूल (TMC) के दो गुटों में जमकर मारपीट हुई. दोनों गुटों (group) के बीच मारपीट के साथ -साथ बमबारी( voilence) भी हुई. जिससे पूरे क्षेत्र (area) में हिंसा और तनाव का माहौल बना हुआ है.

घटना की शुरुआत शुक्रवार देर रात को हुई थी. यहां वार्ड नंबर 71 और 73 के तृणमूल कार्यकर्ता (tmc workers) आपस में भिड़ गए . उसके बाद मामला नही थमा और शनिवार सुबह होते ही दोनों गुटों के सैकड़ों समर्थक एक होकर एक दूसरे पर बमबारी करने लगें


विवाद इतना बढ़ गया कि ईंट, पत्थर और लाठी डंडे से भी हमले हुए हैं. इस घटना में कई लोग घायल बताए जा रहे हैं.


पुलिस पर लगा पक्षपात करने का आरोप

आरोप है कि इलाके में वर्चस्व को लेकर ही दोनों वार्डों के तृणमूल कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए थे. इधर, पुलिस पर भी पक्षपात करने का आरोप लगा है.

निर्दोष लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

स्थानीय लोगों ने कहा कि घटना की सूचना मिलने के बाद कालीघाट थाने की पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन दोषियों को सजा देने के बजाय निर्दोष लोगों को गिरफ्तार कर रही है.

इसकी वजह से पूरे क्षेत्र में तनाव का माहौल है. संभावित संघर्ष को टालने के लिए अतिरिक्त संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है.

ऐसा पहली बार नही हुआ जब टीएमसी दो गुट आपस में ही भीड़ गए हो. कुछ दिन पहले भी एक ऐसा वाक्या सामने आया था. ‘कटमनी’ को लेकर आपस में तृणमूल के दो गुट भिड़ गए थे

जानिए पूरा मामला

कोलकाता. सरकारी परियोजनाओं को आम लोगों तक पहुंचाने के एवज में ली गई ‘कटमनी’ यानी रिश्वत को लेकर कोलकाता में सत्तारूढ़ तृणमूल के दो गुट आपस में भिड़ गए.

‘कटमनी’ को लेकर भिड़े तृणमूल के दो गुट

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार तृणमूल के एक गुटों ने अपनी ही पार्टी के दूसरे गुट के लोगों के घरों पर हमले किए साथ ही भिड़ंत में जमकर तोड़फोड़ भी हुई जवाबी प्रतिक्रिया में दूसरे गुट ने भी ईट पत्थर और लाठी डंडे से हमला किया.

घटना उल्टाडांगा थाना इलाके के दो नंबर श्री कृष्ण कॉलोनी की है. देर रात हालात इतने बिगड़ गए थे कि उल्टाडांगा के साथ-साथ मानिकतला थाने की पुलिस को भी मौके पर पहुंच कर हालात को संभालना पड़ा था.

जानिए किस तृणमूल नेता पर लगा गंभीर आरोप

महिला तृणमूल कर्मी ने स्थानीय तृणमूल नेता बापी वैद्य के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. महिला ने आरोप लगाया कि स्थानीय तृणमूल नेता बापी वैद्य तमाम तरह की सरकारी परियोजनाओं में लोगों से रिश्वत लेता रहता है.

इसका विरोध जब महिला कर्मी ने किया तो बाघी बापी ने उस महिला को गर्भवती होने के बावजूद पेट में लात मारी. इसकी जानकारी मिलने के बाद ही तृणमूल के दूसरे गुट ने बापी के घर पर हमले किए थे हालांकि घटना के बाद से बापी फरार है.

बापी की मां ने इन आरोपों को नकार दिया है. उन्होंने कहा कि घटना के दौरान बापी घर पर नहीं था. घटना के बाद कोलकाता नगर निगम के वार्ड नंबर 32 के पार्षद शांति रंजन कुंडू मौके पर पहुंचे थे.

उन्होंने दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर हालात को संभालने की कोशिश की. संभावित संघर्ष को टालने के लिए मंगलवार अतिरिक्त संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. इधर महिला की शिकायत पर भी पुलिस ने जांच शुरू कर दी है.

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश

Leave a Reply

%d bloggers like this: