सतना: प्रभारी दरोगा की गोली से चोरी के संदेही की मौत, मचा बवाल

satna police
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

सतना जिले के सिंहपुर थाना के लॉकअप में चोरी के संदेही की थानेदार की सर्विस रिवॉल्वर से चली गोली से हुई मौत के बाद बवाल मच गया है. मृतक के परिजन और बड़ी संख्या में ग्रामीण थाने पहुंच गए हैं और सड़क पर धरने पर बैठ गए हैं. परिजनों का सीधा आरोप है कि थानेदार ने शराब के नशे में गोली मार कर राजपति कुशवाहा की हत्या कर दी है. उधर थाने में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. इस मामले पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने आरोपों के घेरे में आये सब इंस्पेक्टर विक्रम पाठक और आरक्षक आशीष को निलंबित कर दिया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार सिंहपुर थाना इलाके के नारायणपुर गांव में बढ़ईगीरी और राजगीर मिस्त्री का काम करने वाले राजपति कुशवाहा 45 वर्ष की रविवार की रात सिंहपुर थाने के अंदर गोली लगने से मौत हो गई. जिस रिवाल्वर से राजपति को गोली लगी वह सिंहपुर थाना प्रभारी विक्रम पाठक की सर्विस रिवॉल्वर थी. गोली लगने के बाद राजपति को सिंहपुर थाने से बिरला अस्पताल ले जाया गया था जहां उसकी मौत हो गई थी. इसके बाद उसे रीवा मेडिकल कालेज ले जाया गया.

पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने की उच्चस्तरीय जांच की मांग

मप्र विधानसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने सतना जिले के सिंहपुर थाने में पुलिस कस्टडी में नारायणपुर निवासी राजपति कुशवाहा की गोली लगने से हुई मौत की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है. पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने जारी बयान में कहा है कि थाने के अंदर पुलिसकर्मी की सर्विस रिवॉल्वर से किसी व्यक्ति की मौत हो जाना बेहद गंभीर मामला है. इस मामले में जो भी दोषी हों उनके खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध कर कड़ीं से कड़ीं कार्यवाही होनी चाहिये.

अजय सिंह ने सवाल उठाते हुए कहा कि एक ओर प्रदेश के मुख्यमंत्री सार्वजनिक मंचों पर प्रदेश में अपराध कम होने का दावा करते हुए अपनी पीठ थपथपाते हैं वहीं दूसरी ओर अपराधी तो दूर पुलिस के दामन पर ही दाग लग रहे हैं. अजय सिंह ने साफ कहा कि सिंहपुर घटना से पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े हो रहे हैं जिसकी उच्चस्तरीय जांच आवश्यक है. उन्होंने कहा कि इसके साथ ही इस मामले में जो भी दोषी हों उन्हें बख्शा नहीं जाना चाहिए.

हिन्दुस्थान समाचार /श्याम पटेल