कानपुर मुठभेड़: हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर पर चला बुलडोजर

नई दिल्ली. हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर पुलिस का शिकंजा कसता जा रहा है. एक तरफ उसकी तलाश में पुलिस लगातार दबिश दे रही है, दूसरी तरफ उसके घर पर बुलडोजर चलाया जा रहा है.

कानपुर के कुख्यात हिस्ट्री शीटर विकास दुबे के घर को जेसीबी से गिराया जा रहा है. खास बात ये है कि जिस जेसीबी से उसने पुलिस का रास्ता रोका था, उसी से प्रशासन उसके घर को ध्‍वस्त कर रहा है. शनिवार को कानपुर प्रशासन की एक टीम ने बिकरू गांव पहुंचकर विकास दुबे के किलेनुमा घर को गिराने का काम शुरु कर दिया है.

इसके साथ ही पुलिस की 100 टीमें अलग-अलग इलाकों की तलाशी ले रही हैं, जहाँ विकास के घर वाले रहते हैं. शुक्रवार रात पुलिस की करीब बीस टीमें अलग-अलग जिलों में विकास दुबे की तलाश में दबिश देता रहीं. ये वो जगहें थी, जहां पर विकास दुबे के रिश्तेदार और परिचित रहते हैं.

पुलिस ने इस मामले में 20 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है. पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है. पुलिस ने इन लोगों को मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर उठाया है.

इसी खोजबीन के दौरान पुलिस ने लखनऊ के कृष्णानगर इलाके में भी छापेमारी की. नौकर के सिवाय विकास के इंद्रलोक कॉलोनी वाले घर में कोई नहीं मिला. मगर पुलिस ने वहां से कुछ संदिग्ध सामानों के साथ पेन ड्राइव बरामद किया है.

वहीं आईजी ने विकास दुबे के बारे में सही जानकारी देने वाले को पचास हजार रुपये का इनाम भी देने की घोषणा की है और जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखने की बात कही है.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक कुछ पुलिसकर्मियों से भी पूछताछ की जा रही है ताकि ये जाना जा सके कि दुबे को उसके घर पर पुलिस की छापेमारी के बारे में पहले से खबर कैसे लगी जिससे उसने पूरी तैयारी के साथ पुलिस दल पर हमला किया.

जानकारी के मुताबिक पुलिस की जांच में आया है कि चौबेपुर थाने के ही एक दारोगा ने विकास को पुलिस के आने की जानकारी पहले दी थी. शक के घेरे में एक दारोगा, एक सिपाही और एक होमगार्ड है. तीनों की कॉल डिटेल के आधार पर उनसे पूछताछ की जा रही है.

इधर पुलिसकर्मियों पर घात लगाकर हमला करने वाले कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की माँ ने बयान दिया है कि उत्तर प्रदेश पुलिस को उनके बेटे को मुठभेड़ में मार देना चाहिए क्योंकि उसने जो किया वह गलत था. विकास दुबे के नेपाल भागने की भी आशंका है, लिहाजा लखीमपुर खीरी जिले की पुलिस भी अलर्ट पर है.

गौरतलब है कि कानपुर में दो जुलाई को हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला किया. हमले में आठ पुलिसकर्मी की मौत हो गई.

Leave a Reply

%d bloggers like this: