यूपीः बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाने की मांग फिर उठी

Demand for Bundelkhand State
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

झांसी, यूपी।

 

बुन्देलखण्ड को अलग राज्य बनाने की आवाज काफी लंबे समय से उठ रही है. अलग राज्य को कई संगठनों द्वारा समय-समय योजनाबद्व तरीके से आंदोलन किए गए. अब इस मुहिम से वकील भी जुड़ गए हैं.

बुन्देलखण्ड निर्माण मोर्चा ने राज्य निर्माण आंदोलन से लोगो को बड़ी संख्या में जोड़ने के लिए कचहरी में अधिवक्ताओं एवं वादकारियों के संकल्प पत्र भरवाए गए. बुन्देलखण्ड क्रांति दल ने प्रधानमंत्री के नाम संम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को देकर शीध्र ही राज्य निर्माण कराए जाने की मांग की.

बुन्देलखण्ड निर्माण मोर्चा के अध्यक्ष भानु सहाय के नेतृत्व में बुधवार को राज्य निर्माण आंदोलन से लोगों को बड़ी संख्या में जोड़ने के लिए कचहरी में अधिवक्ताओं एवं वादकारियों के संकल्प पत्र भरवाए. संकल्प पत्र में जाति, धर्म, सम्प्रदाय एवं राजनीति से ऊपर उठकर बुन्देलखंड राज्य निर्माण के पक्ष में कार्य करने की शपथ ली गई.

बुन्देलखंड वासियो की शपथ लेकर संकल्प पत्र भरे गए, क्योकि बुन्देलखंड वासियो में स्वयं के माता, पिता, बच्चे एवं परिजनों के साथ समस्त बुंदेली शामिल है. संकल्प भरवाने का कार्य जिला जज से प्रारम्भ किया गया. जिसे सीजेएम कंपाउंड के बाद जिलाधिकारी कार्यालय प्रांगण में संकल्प पत्र भरवाए गए.

अधिवक्ताओं एवं वादकारियों ने बड़ी संख्या में सदस्यता एवं संकल्प भरते हुए सामूहिक संकल्प लिया कि अब न चैन से बैठेंगे और न चैन से बैठने देंगे. जब तक राज्य नहीं बन जायेगा. इस दौरान अशोक सक्सेना, रघुराज शर्मा, हमीदा अंजुम, उत्कर्ष साहू, कु. बहादुर आदिम, गिरजा शंकर राय, अनिल कश्यप, नरेश वर्मा, प्रदीप झा आदि मोर्चा के सदस्य उपस्तिथ रहे.

वही, बुंदेलखंड क्रांति दल के केंद्रीय आवाहन पर जनपद में राष्ट्रीय अध्यक्ष कुंवर सत्येन्द्र पाल सिंह के नेतृत्व में प्रधानमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा गया. ज्ञापन के माध्यम से मांग की गई कि बुन्देलखण्ड को शीघ्र ही प्रथक राज्य बनाया जाए.

प्रारम्भ में कार्यकर्ता गांधी पार्क में एकत्रित हुए तथा महानगर अध्यक्ष मो. नईम मंसूरी की अध्यक्षता में एक सभा की गई. सभा के उपरान्त कलेक्ट्रेट जाकर जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया. सभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष कुँवर सत्येंद्र पाल सिंह ने कहा कि पृथक बुंदेलखंड राज्य हमारा अधिकार है और हम इसे लेकर रहेंगे.

उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड राज्य निर्माण आंदोलन के साथ-साथ बुंदेलखंड में जो भी परेशानियां हैं, उनके लिए भी बुंदेलखंड क्रांति दल संघर्ष करेगा. उन्होंने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने प्रधानमन्त्री के समक्ष बुन्देलखण्ड की जनता से वायदा किया था कि अगर केंद्र में बीजेपी की सरकार आई तो 3 साल के भीतर पृथक बुन्देलखण्ड राज्य बना दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि बहुत दुःख की बात है कि इस सम्बन्ध में केंद्र सरकार द्वारा अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है. उन्होंने कहा कि हमारा बुंदेलखंड की जनता से वायदा है कि हम लगातार बुंदेलखंड राज्य के लिए संघर्ष करेंगे, और जब तक पृथक बुंदेलखंड राज्य नहीं बन जाता तब तक हम चैन से नहीं बैठेंगे.

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने शीघ्र पृथक बुन्देलखण्ड राज्य नहीं बनाया तो बुंदेलखंड क्रांति दल व्यापक जनांदोलन करने के लिए बाध्य हो जाएगा. जिसकी पूरी जिम्मेदारी केंद्र सरकार की होगी. इस दौरान ऊषा सिंह प्रदेश अध्यक्ष महिला मोर्चा, शारदा शर्मा जिलाध्यक्ष महिला मोर्चा, अरविन्द सिसोदिया, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मो. अज्जू खान, यशपाल सिंह परिहार, लोकेन्द्र सिंह परिहार, अजय सिंह परिहार, मो. आरिफ मंसूरी आदि मौजूद रहे.

हिन्दुस्थान समाचार/महेश