यूपीः बंजर भूमि को उपजाऊ बनाएगें प्रवासी श्रमिक

Migrant workers
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

मीरजापुर, यूपी।

प्रवासी श्रमिकों का उपयोग अब बंजर भूमि को उपजाऊ बनाने के लिए किया जाएगा. इससे प्रवासी श्रमिकों को जहां रोजगार मुहैया कराने में मदद मिलेगी, वहीं बंजर और ऊसर भूमि को उपजाऊ बनाकर फसलों का उत्पादन किया जाएगा.

 जिले में लगभग 30 हेक्टेयर भूमि को इस वर्ष उपजाऊ बनाने का लक्ष्य तय किया गया है. शासन से इसके लिए भूमि संरक्षण विभाग को धन का भी आवंटन कर दिया गया है ताकि भूमि सुधार के कार्यों में किसी तरह की दिक्कत न होने पाए.

प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मुहैया कराने के लिए प्रदेश सरकार ने विभिन्न विभागों की संचालित योजनाओं में रोजगार तलाश रही है. अब भूमि संरक्षण विभाग से संचालित ऊसर भूमि सुधार योजना में इन श्रमिकों को रोजगार मुहैया कराया जाएगा. भूमि संरक्षण विभाग इस वर्ष 30 हेक्टेयर भूमि को उपजाऊ बनाने क लिए लक्ष्य तय किया है.

इस योजना के तहत बंजर और ऊसर भूमि की मेड़बंदी कराके उपजाऊ बनाया जाएगा. इसके अलावा भूमि में जिप्सम एवं अन्य तत्व भी मिलाए जाएगें ताकि ऊसर भूमि उपजाऊ हो जाए. इस कार्य में लगभग तीस हजार श्रमिकों का उपयोग किया जाएगा. इन श्रमिकों से मनरेगा के तहत कार्य कराया जाएगा.

जिले में बनवाए जाएंगे नौ खेतों का तालाब

भूमि संरक्षण विभाग से इस वर्ष जिले में नौ खेतों का तालाब बनवाए जाएंगे. खेत तालाब योजना के तहत किसानों को शासन से 52 हजार 400 रूपये अनुदान दिया जाएगा. इसी पैसे से किसान प्रवासी श्रमिकों को लगाकर तालाब की खुदाई कराने के बाद पारिश्रमिक का भुगतान करेगा. खेत तालाब की साइज 20 गुणा 22 गुणा तीन मीटर तय की गयी है.

हिन्दुस्थान समाचार/गिरजा शंकर