जारी हुई स्वास्थ्य रैंकिंग, इस राज्य ने किया टॉप

नीति आयोग ने चौंकाने वाले आंकड़े जारी किए हैं. नीति आयोग के मुताबिक, स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवाओं के मोर्चे पर पिछडे़ बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और ओडिशा पहले से भी ज्यादा बुरी हालत में हैं.

ये आंकड़ें तब सामने आए हैं जब बिहार में इन दिनों चमकी बुखार का कहर जारी है. यहां 150 से भी ज्यादा बच्चों की मौत चमकी से हो चुकी है. आंकड़ों से जाहिर होता है कि बिहार में स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवा किस हद तक अच्छी हैं.

इसके विपरित हरियाणा, राजस्थान और झारखंड में हालात काफी हद तक बेहतर हुए हैं. इस रिपोर्ट को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और विश्व बैंक के तकनीकी सहयोग से तैयार नीति आयोग की स्वास्थ राज्य प्रगतिशील भारत शीर्षक से जारी रिपोर्ट में राज्यों की रैंकिंग में ये बात सामने आई है.

इस रिपोर्ट के मद्देनजर नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने मीडिया को बताया कि मंगलवार को स्वास्थ्य के मोर्चे पर राज्यों की स्थिति को बेहतर करने के लिए बजट आवंटन बढ़ाने को कहा है.

रिपोर्ट के आधार पर अभी भारत में कई राज्यों में स्वास्थ्य क्षेत्र में काफी काम करने को बाकी है. इसमें सुधार करने के लिए स्थिर प्रशासन, महत्वपूर्ण पदों को भरना जरूरी है.

बिहार सबसे निचले स्तर पर

इस रिपोर्ट में कुल 21 राज्यों की सूची बनाई गई है. इस सूची में चमकी का कहर झेल रहा बिहार सबसे नीचे यानी 21वें पायदान पर रहा. इसके बाद उत्तरप्रदेश(20), उत्तराखंड(19वें) और ओडिशा 18वें पायदान पर रहा.

केरल रहा शीर्ष पर

बड़े राज्यों की बात करें तो ये 74.01 अंकों के साथ टॉप पर रहा है. आंध्र प्रदेश को दूसरा और महाराष्ट्र तीसरे पोजिशन पर है. वहीं अगर छोटे राज्यों की बात करें तो मिजोरम 74.97 अंकों के साथ टॉप पर है. इसके बाद मणिपुर और मेघालय दूसरे और तीसरे पोजिशन पर है.

वहीं इनके अलावा अगर केंद्र शासित प्रदेशों में चंडीगढ़ को नंबर वन पोजिशन मिली है, जबकि देश की राजधानी दिल्ली इस लिस्ट में पांचवे नंबर पर है.

1 thought on “जारी हुई स्वास्थ्य रैंकिंग, इस राज्य ने किया टॉप”

Leave a Comment

%d bloggers like this: