कोरोना के बाद अब इस वायरस से दुनिया को एक और खतरा

कजाकिस्तान के वायरस को लेकर दुनिया में एक नया डर उत्पन्न हो रहा है. चीनी दूतावास ने कहा है कि यह कोरोना से भी खतरनाक वायरस है, इससे अब तक 1700 लोगों की जान जा चुकी है. यह वायरस कैसे फैला, अभी तक इसके स्रोत का पता नहीं चल पा रहा है.

हालांकि आज कजाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह कहकर लोगों को थोड़ी राहत दी है कि कजाकिस्तान के इस वायरस से न्यूमोनिया का अटैक आ रहा है, लेकिन यह नया नहीं है. पिछले एक साल से कजाकिस्तान में यह फैला हुआ है. इस वायरस पर अभी और सूचना एकत्र की जा रही है.

सबसे पहले 9 जुलाई को कजाकिस्तान स्थित चीनी दूतावास ने वहां रह रहे अपने नागरिकों के लिए यह अलर्ट जारी किया कि कजाकिस्तान का यह वायरस कोरोना से भी खतरनाक है और इससे मरने की संख्या भी ज्यादा होने की जानकारी मिल रही है. चीनी दूतावास ने ही जानकारी दी कि रोजाना इस कजाक वायरस से सैकड़ों लोग बीमार पड़ रहे हैं और इससे अब तक 1700 लोगों की जान जा चुकी है. कजाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा कि मध्य जून से इस वायरस से संक्रमित लोग न्यूमोनिया की शिकायत के साथ ज्यादा आ रहे हैं.

कजाक स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि इस वायरल न्यूमोनिया वाले वायरस की इटियोलाॅजी, यानी इसके होने के कारण, का पता नहीं चल पाया है. लेकिन यह कहना कि यह वायरस महामारी का कारण बन गया है, सही नहीं है. कजाक स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि जिस तरह से चीन ने इसके बारे में बताया है वह सच्चाई नहीं है. चीनी दूतावास ने कहा था कि इस अनजान वायरस से जो 1,772 लोग मरे हैं उनमें से कई चीन के भी नागरिक हैं. अकेले जून में कुल 628 लोग इस नए वायरस से अपनी जान गवां चुके हैं.

कजाकी न्यूज एजेंसी काजइनफोर्म के अनुसार राजधानी क्षेत्र नूर सुल्तान में इस साल जून में पिछले साल के मुकाबले दुगने संक्रमित लोग सामने आए. इस न्यूज़ एजेंसी का कहना है कि लगभग 200 लोग रोजाना ही संक्रमित होकर अस्पताल आ रहे हैं. चीन ने कजाकिस्तान में रह रहे अपने नागरिकों को यह सलाह दी है कि बिना किसी जरूरत के घर से बाहर ना निकले और भीड़ वाली जगह से बचें. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने भी कहा है कि इस अनजान वायरस के बारे में और जानकारी जुटाई जा रही है.

प्रवक्ता ने कहा कि पिछले साल जून के मुकाबले इस साल जून में इस वायरस से संक्रमितों की संख्या में 300 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. जून 2019 में इस वायरस से बीमार लोगों की संख्या 7,964 थी, जबकि जून 2020 में यह संख्या बढ़कर 32,724 हो गई थी. पिछले साल जून में इस वायरस से मरने वालों की संख्या 274 थी, जबकि जून 2020 में 628. दुनिया के पास जब तक इस वायरस के बारे में सही तस्वीर नहीं आएगी, तब तक लोगों में एक अनजान डर बना रहेगा.

हिन्दुस्थान समाचार / बिक्रम

Leave a Reply

%d bloggers like this: