केंद्रीय मंत्री शेखावत ने किया असम के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा
  • शेखावत ने हेलीकाप्टर से माजुली जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लिया. वर्तमान समय में बाढ़ से राज्य के 33 में से 30 जिले बाढ़ की चपेट में आ गए हैं
  • बाढ़ के कारण असम विधानसभा का 18 जुलाई से आरंभ होने वाला मानसून सत्र अब 26 जुलाई से शुरू होगा

माजुली (असम), 16 जुलाई. असम राज्य के 33 में से 30 जिले बाढ़ की चपेट में हैं. 42 लाख से अधिक लोग बाढ़ की वजह से प्रभावित हुए हैं.

सरकारी मशीनरी बाढ़ प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने में जुटी हुई है. मंगलवार को केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने बाढ़ प्रभावित नदी दीप माजुली का हवाई दौरा किया. उनके साथ असम सरकार के जल संसाधन मंत्री केशव महंत, राजस्व मंत्री भबेश कलिता भी मौजूद थे.

शेखावत ने हेलीकाप्टर से माजुली जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लिया. वर्तमान समय में बाढ़ से राज्य के 33 में से 30 जिले बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. बाढ़ के कारण असम विधानसभा का 18 जुलाई से आरंभ होने वाला मानसून सत्र अब 26 जुलाई से शुरू होगा.

विधानसभा अध्यक्ष हितेंद्र नाथ गोस्वामी ने मंगलवार को विधानसभा परिसर में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह जानकारी दी.

उन्होंने कहा कि राज्य के लोग बाढ़ से बेहद परेशान हैं, जिसके चलते विधानसभा सत्र को पूर्व निर्धारित तारीख के बदले 26 जुलाई से आहूत किया गया है.

वहीं मोरीगांव जिले के एजारबाड़ी इलाके में बाढ़ के पानी में एक व्यक्ति के डूब जाने का मामला सामने आया है. स्थानीय लोगों ने बताया है कि सोमवार की रात एजारबाड़ी निवासी विष्णु डेका (50) अपने घर के पिछवाड़े किसी काम से गए थे. संभवतः वे फिसलकर बाढ़ के पानी में डूब गये.

घटना की खबर मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस की टीम ने स्थानीय लोगों की मदद से तलाशी अभियान चलाया. अंधेरा होने की वजह से अभियान को रोक दिया गया.

मंगलवार तड़के पुलिस ने एसडीआरएफ की मदद से बाढ़ के पानी में डूबे विष्णु डेका की तलाश शुरू की है जिनका अभी तक पता नहीं चल पाया है.

उल्लेखनीय है कि राज्य में बाढ़ के चलते 33 में से 30 जिलों में पानी प्रवेश कर गया है. 42 लाख से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. हिन्दुस्थान समाचार/अरविंद/असरार

Trending Tags- Union Minister | Shekhawat Visited Assam Flood | Assam News

Leave a Comment

%d bloggers like this: