ट्रम्प ने मोदी को दिया जी-7 शिखरवार्ता में भाग लेने का निमंत्रण

-टेलीफोन वार्ता में भारत-चीन सीमा की स्थिति पर भी हुई चर्चा

नई दिल्ली, 02 जून (हि.स.). प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प से भारत-चीन सीमा की मौजूदा स्थिति तथा जी7 समूह में भारत को शामिल किए जाने सहित विभिन्न मुद्दों पर मंगलवार को टेलीफोन पर बातचीत की.अमेरिकी राष्ट्रपति ने मोदी को जी7 समूह की अगली शिखरवार्ता में भाग लेने का निमंत्रण दिया.

प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार मोदी ने दुनिया के प्रमुख देशों के संगठन जी7 की शिखरवार्ता में भारत को शामिल किए जाने के लिए राष्ट्रपति ट्रम्प की पहल का स्वागत किया.ट्रम्प ने प्रधानमंत्री को बताया था कि जी7 समूह की अध्यक्षता संभाल रहा अमेरिका इस मंच का विस्तार करने का इच्छुक है.समूह के मौजूदा 7 सदस्यों के अलावा भारत सहित कुछ प्रमुख देशों को इसमें शामिल किया जाएगा.

मोदी ने राष्ट्रपति ट्रम्प की इस पहल को सकारात्मक और दूरदर्शी बताते हुए कहा कि यह ‘कोविड-19 पश्चात विश्व की हकीकत के अनुरूप ही है.मोदी ने कहा कि भारत अमेरिका और जी7 देशों की शिखर-वार्ता को सफल बनाने के लिए अमेरिका और अन्य देशों के साथ मिलकर काम करने में खुशी महसूस करेगा.

उल्लेखनीय है कि जी7 शिखर वार्ता जून महीने में कैम्प डेविड (अमेरिका) में आयोजित होनी थी लेकिन कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अब इसे कुछ महीने के लिए टाल जा सकता है.इस समूह के सात मौजूदा सदस्य हैं- अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जापान, जर्मनी, इटली और कनाडा.अमेरिका चाहता है कि शिखरवार्ता में भारत, रूस, आस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया भी आमंत्रित किए जायें.

दोनों नेताओं ने भारत-चीन सीमा पर मौजूदा स्थिति पर भी बातचीत की.बातचीत का ब्यौरा अभी उपलब्ध नहीं है.

दोनों नेताओं ने कोरोना महामारी और संभावित सहयोग के बारे में भी विचार-विमर्श किया.चर्चा के दौरान विश्व स्वास्थ्य संगठन में सुधार का मुद्दा भी आया.उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने हाल में इस विश्व संस्था से नाता तोड़ने की घोषणा की है.मोदी ने अमेरिका में जारी आतंरिक असंतोष पर चिंता व्यक्त की तथा आशा व्यक्त की कि स्थिति शीघ्र ही सामान्य हो जाएगी.

बातचीत के बाद प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, “मेरी अपने मित्र राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प से गर्मजोशी भरी सकारात्मक बातचीत हुई.हमने जी7 समूह की अमेरिकी अध्यक्षता के दौरान ट्रम्प की योजनाओं पर चर्चा की.कोविड-19 महामारी और अन्य मुद्दों पर भी बातचीत हुई।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 पश्चात विश्व व्यवस्था में भारत-अमेरिका के बीच गहरे संबंध और गहन आपसी विचार-विमर्श प्रमुख स्तंभ होंगे.

हिन्दुस्थान समाचार/सुफल/अनूप/जितेन

Leave a Reply

%d bloggers like this: