CM के खिलाफ कविता पोस्ट करने वाले इंजीनियर की मुश्किलें बढ़ी

कोलकाता. सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ कविता पोस्ट वाले सरकारी इंजीनियर की मुश्किलें बढ़ गई हैं. पूर्व मेदिनीपुर के रामनगर दो नंबर ब्लॉक के सब असिस्टेंट इंजीनियर प्रदीप कुमार हीरा ने एक कविता मुख्यमंत्री के खिलाफ लिखी थी.

ममता बनर्जी की तस्वीर के साथ उन्होंने इस कविता को सोशल साइट पर पोस्ट कर दिया था. इसकी शिकायत जिलाधिकारी के पास पहुंची.

जिसके बाद बीडीओ ने उन्हें सोमवार को ही कारण बताओ नोटिस दे दिया था. उनसे पूछा गया था कि सरकारी पद पर होने के बावजूद मुख्यमंत्री के खिलाफ इस तरह की कविता लिखकर उसे सोशल साइट पर डालने की वजह से क्यों न उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाए? इसके जवाब में इंजीनियर ने अपने संवैधानिक अधिकारों का हवाला देकर बोलने की आजादी का जिक्र किया था लेकिन अब बीडीओ ने उन्हें पद से हटाने की प्रक्रिया शुरू की है.

बीडीओ की ओर से जिलाधिकारी पार्थ घोष, कांथी के महकमा शासक शुभमय भट्टाचार्य और जिला परिषद के सभापति देवब्रत दास को इंजीनियर के इस बर्ताव से अवगत कराया गया है. खबर है कि उक्त इंजीनियर का सुदूर क्षेत्र में तबादला किया जा सकता है या उनके खिलाफ किसी अन्य तरीके से विभागीय कार्रवाई हो सकती है.


वैसे इंजीनियर प्रदीप कुमार ने साफ कर दिया है कि अगर उनके खिलाफ किसी भी तरह की असंवैधानिक कार्रवाई हुई तो वो अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे.

इस बारे में प्रतिक्रिया के लिए बुधवार को जब रामनगर दो नंबर के बीडीओ मनोज कांजीलाल से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि लोगों को निश्चित तौर पर बोलने और लिखने की संवैधानिक आजादी है लेकिन सरकारी पद पर बैठे लोग प्रशासनिक प्रमुख मुख्यमंत्री के खिलाफ इस तरह से पोस्ट नहीं कर सकते.


ये सरकारी सेवा कानून की अवहेलना है और इसके खिलाफ निश्चित तौर पर कार्रवाई का प्रावधान है. जिला प्रशासन के सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि प्रदीप कुमार ने बताया है कि वो कविता उनकी लिखी हुई नहीं है. किसी और के पोस्ट को उन्होंने शेयर किया था.


साल 2012 में जादवपुर विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर अंबिकेश महापात्रा ने “फॉरवर्ड” नाम से एक व्यंग चित्र बनाया था. जिसमें मुख्यमंत्री की तस्वीर थी. उसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. अंबिकेश की गिरफ्तारी की वजह से देश भर में ममता बनर्जी की तीखी आलोचना हुई थी. बाद में उन्हें अदालत से जमानत मिल गई थी.

न्यायालय ने इस सख्ती के लिए पुलिस को फटकारा भी गया था. हाल ही में सोशल साइट पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की एक विकृत तस्वीर डालकर भारतीय जनता युवा मोर्चा की नेत्री प्रियंका शर्मा भी गिरफ्तार हो चुकी हैं.


इसे लेकर भी सुप्रीम कोर्ट ने ममता बनर्जी की सरकार को फटकार लगाई थी और इस मामले में अदालत की अवमानना का केस चल रहा है. अब नंदीग्राम के इस सरकारी इंजीनियर पर भी गाज गिर सकती है.

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश

Leave a Comment