डिप्रेशन से बच नहीं पाए ये एक्टर्स, जानिए इसके लक्षण

ff
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. दीपिका पादुकोण, अनुष्का शर्मा, परवीन बाबी, सिल्क स्मिता, जिया खान, मनीषा कोईराला, अमिताभ बच्चन, शाहरूख खान, धर्मेंद्र और गुरू दत्त… और अब सुशांत सिंह राजूपत..

इन सभी नामों के बीच सिर्फ एक बात सामान्य है. वो ये के सभी अपने जीवन में कभी न कभी डिप्रेशन का शिकार रह चुके हैं. कई एक्टर्स ने डिप्रेशन से जंग जीत ली तो कई इस जंग में हार गए..

इस लिस्ट में अब एक नाम और जुड़ गया है एक्टर सुशांत सिंह राजपूत का नाम तो सुशांत लेकिन अंदर से अशांत… और इस अशांति का कारण था डिप्रेशन. जिसने उनकी जान ले ली.. उन्हें किस वजह से डिप्रेशन था फिलहाल इसकी जानकारी नहीं मिली है.

फिल्मों में जिंदगी जीने का संदेश देने वाले सुशांत ने महेंद्र सिंह धोनी का किरदार निभाकर खुद को अलग पहचान दिलाई थी. महेंद्र सिंह धोनी जो क्रिकेट के मैदान पर विपरीत परिस्थितियों में भी मजबूती के साथ पूरी टीम के लिए खड़े रहते थे, मगर धोनी के इस किरदार को निभाने वाले सुशांत शायद असल जिंदगी में धोनी की इस खूबी को अपने अंदर नहीं ले पाए और डिप्रेशन में ये कदम उठा लिया.

डिप्रेशन के बारे में मनोचिकित्सक कहते हैं कि जब किसी व्यक्ति को भावनात्मक रूप से गहरी चोट पहुंची हो तब डिप्रेशन का शिकार कोई व्यक्ति हो सकता है. और ऐसा सोचना की फिल्मी सितारों की जिंदगी में कोई दुख नहीं होता, ये सरासर गलत है. हर फिल्म स्टार भी पहले एक इंसान ही है.

WHO की इस साल जनवरी में एक रिपोर्ट आई थी. इस रिपोर्ट में कहा गया कि डिप्रेशन एक कॉमन मेंटल डिसॉर्डर है. ये गंभीर मानसिक रोग है. ये ऐसी बीमारी है जिसमें इंसान का स्ट्रेस उसे अक्सर मौत के आगेश में लेने को मजबूर कर देता है. रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में लगभग 26 करोड़ लोग ऐसे हैं जो डिप्रेशन की समस्या से जूझ रहे हैं.

रिपोर्ट में कहा गया कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं डिप्रेशन की ज्यादा शिकार होती है. इस गंभीर बीमारी को समय पर काबू में न किया जाए तो ये जानलेवा भी बन जाती है.
एक्सपर्ट्स कहते हैं कि डिप्रेशन की कई वजहें हो सकती है.

  1. इसमें व्यक्ति के बेहद करीबी का दूर हो जाना.
  2. परिवार से दूर अकेले रहना
  3. भविष्य को लेकर होने वाली चिंता
  4. असुरक्षा की भावना का पैदा होना
  5. अन्य लोगों द्वारा अलग थलग कर देना
  6. वित्तीय समस्या या पारिवारिक समस्या
  7. जो व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार होता है उसकी बीमारी को कई लक्षणों से पहचाना जा सकता है.
  8. वह व्यक्ति दूसरों से मिलना जुलना छोड़ देता है
  9. ऐसे व्यक्ति को नींद कम आती है या बार बार नींद टूटती है
  10. ऐसे व्यक्ति की भूख कम हो जाती है
  11. डिप्रेशन का शिकार व्यक्ति कमजोर होने लगता है
  12. डिप्रेशन के पीड़ित को अकेले रहना और कम बोलना पसंद होता है

किसी भी व्यक्ति जिसके डिप्रेशन में होने की संभावना नजर आती है, उसे तत्तकाल रूप से मनोचिकित्सक से संपर्क करना चाहिए. लंबे समय तक डिप्रेशन में रहने का नतीजा ही है कि व्यक्ति के मन में आत्महत्या का विचार आता है. ऐसे व्यक्ति से बात करना बेहद जरूरी होता है. उन्हें किसी भी हाल में अकेला छोड़ना बेहद घातक साबित हो सकता है. ऐसे में कोशिश करें की घर में खुशनुमा माहौल बनाए रखें.