#HathrasGangrape: नेताओं का तमाशा कब होगा बंद, रेप पर राजनीति करने वाले होश में आओ

5
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
एक मां ने अपनी लाड़ली को खोया, एक परिवार ने अपनी बेटी को खोया, एक बेटी से उसकी आखिरी विदाई का हक छीना गया..हाथरस केस, सिर्फ एक केस नहीं है बल्कि एक लड़की की अस्मिता की वो लड़ाई है, जो वो हमेशा से पाना चाहती है…लेकिन भारत जैसे देश में जहां पर जुर्म करने वाला बेखौफ रहता है और सिसकती रह जाती है मजबूरियां..
हाथरस केस में भी कुछ ऐसा ही हुआ जहां, पीडि़ता को उसकी आखिरी विदाई में परिवार का साथ भी नसीब नहीं हुआ…दरिंदों को सजा तो दूर उस बेचारी की आत्मा ये देखकर तड़प रही होगी कि मेरी मौत के बाद इस पर भी राजनीति हो रही है.. उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से इस पूरे मामले की सीबीआई जांच के आदेश दे दिए गए हैं..इसके साथ ही SIT की जांच भी चल रही है.. जांच से अलग राजनीतिक घटनाक्रम लगातार जारी है…
गौरतलब है कि यूपी के हाथरस में 19 साल की एक दलित युवती के साथ ‘गैंगरेप’ और हत्या के मामले को लेकर सियासी बवाल मचा हुआ है…विपक्ष लगातार यूपी की योगी  सरकार पर निशाना साध रहा है..यूपी पुलिस पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं.. खासकर जिस तरह से पीड़िता के शव को परिजनों को भरोसे में लिए बिना उसका जबरन अंतिम संस्कार कर दिया गया…
ये मसला बाकेई गंभीर है.. दो दिनों की कोशिशों के बाद बीते शनिवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा ने पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की… राहुल-प्रियंका गांधी के बाद कई राजनेता और पार्टियों के लोग हाथरस का रूख कर रहे हैं..वहीं इस घटना को लेकर बीएसपी, एसपी और रालोद जैसी पार्टिया भी लगातार योगी सरकार पर हमलावर हैं…
आप के सांसद संजय सिंह, भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने हाथरस में पीड़िता के घरवालों से मुलाकात की…सपा मुखिया अखिलेश यादव  के निर्देश पर पार्टी का प्रतिनिधिमंडल भी परिवार से मिला.. इसी के साथ ही RLD पार्टी के कार्यकर्ता और सपा कार्यकर्ताओं ने गांव में हंगामा किया..
यहां पर RLD कार्यकर्ताओं ने सुरक्षा घेरा तोड़ कर पुलिस पर पथराव किया और पुलिस ने भी जमकर लाठियां भांजी.. हाथरस पीड़िता को इंसाफ दिलाने के लिए कांग्रेस की ओर से लगातार देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन किया जा रहा है..जो लगातार राजधानी दिल्ली समेत कई जगहों पर जारी है…
बीते दिन प्रदेश में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बयान आया, जिसमें उन्होंने विरोधियों पर निशाना साधा..योगी ने कहा कि कुछ लोग विकास को रोकना चाहते हैं, इसलिए प्रदेश और देश में जातीय दंगा करवाना चाहते हैं.. इसीलिए हर रोज सरकार के खिलाफ साजिश रची जा रही है..
इस केस में एक के बाद एक कई चौंकाने वाले खुलासे सामने आ रहे हैं…सुरक्षा एजेंसियों को जानकारी मिली है कि इस केस की आड़ में यूपी में बड़े स्तर पर जातीय दंगे कराने की योजना थी.. दंगे की इस वेबसाइट के तार एमनेस्टी इंटरनेशनल नाम के एक संगठन से जुड़े हैं…इसके लिए इस्लामिक देशों से जमकर फंडिंग की गई.
आपको बता दें कि हाथरस में 14 सितंबर को 19 साल की दलित लड़की से गैंगरेप की घटना हुई थी, जिसके बाद 29 सितंबर को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी…इसके बाद आनन-फानन में देर रात को ही यूपी पुलिस ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया..बस तभी से इस घटना पर बवाल मचा हुआ है…
हालांकि, परिवार की ओर से न्यायिक जांच की मांग की जा रही है. परिवार की ओर से अब अपील की जा रही है कि वो किसी सुरक्षित जगह पर जाना चाहते हैं, गांव में उन्हें खतरा हो सकता है.जिस तरह से सभी राजनीतिक दलों के बीच हाथरस के पीड़ित परिवार से हमदर्दी जताने की जो होड़ मची है, वो कई सवाल पैदा करती है…हाथरस में जो तमाशा चल रहा है चले,, हमारा अंत में बस यही कहना है कि रेप पर राजनीति करने वाले सत्ता में आने पर इस भूल न जाएं.