रातों- रात अमीर बनाने का ख्वाब दिखाने वाले गिरोह का पर्दाफाश

चंबा, 17 नवंबर
जिले की पुलिस ने देश के अलग-अलग हिस्सों में लोगों को रातों रात अमीर बनाने का ख्वाब दिखाकर उन्हें ठगने वाले बिहार और पश्चिम बंगाल से ताल्लुक रखने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है. धोखाधड़ी (स्कैम) के मास्टर माइंड समेत चार लोगों को बिहार से गिरफ्तार करने में जिले की पुलिस ने सफलता हासिल की है.

गिरफ्तारी के दौरान पुलिस को बहुत सारे एटीएम, सिम कार्ड, मोबाइल, टैब, लॉटरी टिकट और बैंक पासबुक मिली हैं. यह पूरा मामला चुवाड़ी थाने के एक व्यक्ति की शिकायत के आधार पर रजिस्टर होने पर ही पूरा सामने आ पाया है.

पुलिस थाना चुवाड़ी में अनिल कुमार निवासी (चुवाड़ी) ने चुवाड़ी थाना में आकर शिकायत दर्ज करवाई थी कि दो अक्तूबर 2019 को डाक के माध्य्म से रजिस्ट्री पत्र में एक कूपन मिला है, जिसमें एक गाड़ी इनाम के तौर पर मिलने का जिक्र था. साथ ही इसके बदले में उन्हें कुछ राशि टैक्स के तौर पर देने को कहा गया गया, ईनाम पाने के लालच में अनिल ने दो लाख बीस हजार रुपये की रकम बताए गए खाते में तुरंत जमा कर दी. रकम खाते में आने के बाद ईनाम का कूपन भेजने वालों ने रिस्पांस देने बंद कर दिया.

बहरहाल, धोखाधड़ी का शिकार होने का शक होने पर पीडि़त ने तुरंत पुलिस थाना चुवाड़ी में आकर शिकायत दर्ज करवा दी.

एसपी चंबा ने एक टीम बनाकर इस टीम को जांच का जिम्मा दिया गया और इस टीम ने बेस्ट परफारमेंस देकर देश के अलग-अलग कोने के लोगों को रातों रात अमीर होने का ख्वाब दिखाकर लूटने वालों का पर्दाफाश करते हुए एक बड़े गिरोह को गिरफ्तार कर लिया.

आरोपी की कॉल डिटेल और लोकेशन के आधार पर टीम ने बिहार के इलाकों में जगह-जगह पर दबिश दी और कड़ी मशक्कत के बाद इस स्कैम के मास्टर माइंड धनंजय और अलोक निवासी बिंदवाड़ा (मुंगेर) से अपनी हिरासत में ले लिया गया. जिनसे 15 एटीएम कार्ड , 14 आधार कार्ड , 6 ड्राइविंग लाइसेंस 7 पैन कार्ड , 9 बैंक एकाउंट पासबुक व 5 मोबाइल फ़ोन और 1 टैबलेट बरामद किया गया.

बैंक अकॉउंट की डिटेल और फ़ोन की लोकेशन के साथ साथ उनसे गहनता से पूछताछ करने पर दो और आरोपी सलिप्त पाए गए. बहरहाल, इसी टीम ने उनकी लोकेशन के आधार पर बिहार(पटना) में दबिश दी, जहां से इस स्कैम के मुख्य सरंगना अमित कुमार उर्फ बिट्टू निवासी कतरीसरायें , नालंदा( पटना) और मिठू शर्मा निवासी मालदा( पश्चिम बंगाल) को भी पटना से अपनी हिरासत में ले लिया गया. यही दोनों पैसों को अलग अलग खातों में भेजते थे.

एटीएम से पैसे निकालते हुए की इनकी फुटेज भी मिली है. इनके पास से 10 मोबाइल फ़ोन, 55 सिम कार्ड ,13 एटीएम , 2 बैंक पासबुक व चैक बुक ,1 लैपटॉप व लकी ड्रा की टिकटों को बरामद किया गया. धोखाधड़ी करने वालों के बैंक के खाते में 4 लाख 91 हजार नगदी को भी बरामद कर लिया गया.

सभी आरोपियों को दानापुर (पटना) न्यायालय में पेश करवाया गया और अब इन तमाम आरोपियों को 6 दिन के ट्रांजिट रिमांड पर चंबा लाया जा रहा है.

एसपी चंबा डॉ मोनिका ने भी पुष्टि करते हुए बताया कि मसला गंभीर होने के कारण एक टीम बनाई गई थी, जिसमें मुख्य आरक्षी भजन कुमार ,आरक्षी मेहर दत्त, आरक्षी नितेंद्र पॉल व चैन सिंह (अपराध शाखा) और विक्रम कुमार (अपराध शाखा) को शामिल किया गया. कॉलर की कॉल डिटेल, बैंक डिटेल और पेटीएम डिटेल ली गई और फिर इस टीम को बिहार के लिए भेजा गया था. इस टीम ने जबदरस्त काम करके पुलिस महकमे का मान बढ़ाने का काम किया है.

हिन्दुस्थान समाचार/हरी

Leave a Reply