Assam में बाढ़ का कहर, Kaziranga National Park के जानवर भी हुए प्रभावित

देश के ज्यादातर हिस्सों में मानसून की भारी बारिश आफत बनकर आई है. देश के कई हिस्से इस वक्त बाढ़ की चपेट में हैं. नदियों का जल स्तर बढ़ने के कारण असम, मेघालय और बिहार के कई इलाके जलमग्न हो गए है. बाढ़ (Flood) से असम और बिहार में तकरीबन 35 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं.

जंगली जानवरों की जान को खतरा

इस जल प्रलय में इंसान ही नहीं बल्कि जंगली जानवर भी परेशान हैं. असम के काजीरंगा नेशनल पार्क (Kaziranga National Park) का अधिकतर हिस्सा बाढ़ के पानी में डूब जाने से वन्य जीवों की जान खतरे में पड़ गई है. इस पार्क में गैंडे के अलावा हिरण, हाथी, जंगली भैंस समेत कई तरह के जंगली जानवर रहते हैं.

वन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान का 70 फीसदी हिस्सा भी बाढ़ से प्रभावित हुआ है. इस पार्क को एक सींग वाले गैंडा के लिए विकसित किया गया है और विश्व धरोहर स्थल है. उन्होंने बताया कि इसके अलावा जंगली भैंस, हाथी और हिरण जैसे कई अन्य जानवर भी इस पार्क में बड़ी संख्या में रहते हैं. उन्होंने बताया कि इस समय ब्रह्मपुत्र नदी के जलस्तर में काफी बढ़ोत्तरी हो गई है. जिससे गुवाहाटी, निमातीघाट, सोनिपुर, गोअल्परा और धुबरी के कई इलाकों में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है.

15 लाख लोग हुए प्रभावित

उत्तर पूर्वी राज्य असम में बाढ़ से रविवार से हालात और भी खराब हो गए. धेमाजी और बरपेटा जिले में से लगभग 419 गांव पानी में डूब गए, जबकि समूचे सूबे में मृतकों बढ़कर 11 हो गई. प्राकृतिक आपदा से करीब 28 जिलों के लगभग 15 लाख लोग प्रभावित हैं. असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (ASDMA) के अनुसार प्रभावित जिलों में धेमाजी, लखीमपुर, बिस्वनाथ, नलबाड़ी, चिरांग, गोलाघाट, माजुली, जोरहाट, डिब्रूगढ़, नगांव, मोरीगांव, कोकराझार, बोंगाईगांव, बक्सा, सोनितपुर, दर्रांग और बारपेटा शामिल हैं.

राहत शिविरों में भारी भीड़

बाढ़ के पानी में कुल 51 हजार 752 हेक्टेयर में खड़ी फसल डूब गई है. लोगों को अपने घरों को छोड़कर राहत शिविरों व ऊंचाई वाले स्थानों पर शरण लेने को मजबूर होना पड़ा है. प्रशासन ने कुल 234 राहत शिविर स्थापित किए हैं. जबकि राहत सामग्रियों का वितरण करने के लिए कुल 20 हजार 047 केंद्र स्थापित किए गए है. बाढ़ में फंसे लोगों को राहत पहुंचाने के लिए NDRF और SDRF की टीम पूरी मुश्तैदी के साथ लगी हुई है. साथ ही बाढ़ प्रभावित इलाकों में दोनों एजेंसियां राहत सामग्री भी पहुंचाने में जुटी हुई हैं.

गृहमंत्री ने की सीएम सोनोवाल से बातचीत

बीते शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने टेलीफोन पर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल (Sarbanand Sonowal) से राज्य में आई बाढ़ के हालात की जानकारी ली. उन्होंने केंद्र सरकार की ओर से हर संभव मदद का आश्वासन दिया.

1 thought on “Assam में बाढ़ का कहर, Kaziranga National Park के जानवर भी हुए प्रभावित”

Leave a Comment

%d bloggers like this: