Tesla ने रचा इतिहास, दुनिया की सबसे बड़ी ऑटो कंपनी

नई दिल्ली. अमेरिका की दिग्गज इलेकट्रिक कार निर्माता कंपनी Tesla ने इतिहास रच दिया है. एलन मस्क के स्वामित्व वाली टेस्ला टोयोटा को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की सबसे बड़ी कार कंपनी बन गई है.

1 जुलाई को टेस्ला का शेयर ऑल-टाइम हाई पर पहुंचने के बाद कंपनी ने ये कारनामा कर दिखाया है. 1 जुलाई को कंपनी के शेयर ऑल टाइम हाई पर पहुंचे जिसके बाद कंपनी के शेयरों में लगातार बढ़ोतरी होती गई. टेस्ला के शेयरों ने बुधवार सुबह कारोबार में 5 फीसदी की बढ़त के साथ सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. फिर टेस्ला टोयोटा को पछाड़ दुनिया की सबसे वैल्युएबल कंपनी बन गई.

टेस्ला का शेयर जोरदार तेजी के साथ 1133 डॉलर के भाव पर पहुंचने के साथ ही कंपनी का मार्केट कैपिटाइलजेशन बढ़कर 208 अरब डॉलर यानी की 15.20 लाख करोड़ रुपए हो गई. टेस्ला ने जापान की कार कंपनी टोयोटा को पीछे छोड़ दिया है. जापानी कारमेकर टोयाटा की मार्केट कैप 203 अरब डॉलर यानी 15.02 लाख करोड़ रुपये है.

आपको बता दें कि Tesla ने 100 साल से ज्यादा पुरानी दुनिया की दो दिग्गज अमेरिकी कार कंपनियों जनरल मोटर्स और फोर्ड मोटर कंपनी को भी बहुत पीछे छोड़ दिया है. Tesla ने साल 2008 में पहली Electric car कार बनाई थी. आलम यह है कि आज टेस्ला की मार्केट वैल्यू अमेरिका की कार निर्माता कंपनियां जनरल मोटर्स और फोर्ड मोटर कंपनी के संयुक्त मार्केट कैप से तीन गुना से भी ज्यादा हो गई है.

साल 2020 में अभी तक कंपनी के शेयरों में तकरीबन 163 फीसदी से ज्यादा की बढ़त देखने को मिली है. मार्केट एक्सपर्ट की मानें तो जिस तरह टेस्ल के शेयर हर दिन तेजी से बढ़ रहे हैं, उसे देखकर ऐसा लगता है कि कंपनी जल्द ही 1 ट्रिलियन डॉलर यानी लगभग 71.43 लाख करोड़ रुपये के लक्ष्य को पार कर लेगी.

Leave a Reply

%d bloggers like this: