IPL में खराब प्रदर्शन के बाद विजय शंकर ने दिया बड़ा बयान

नई दिल्ली. भारत के पूर्व क्रिकेटर्स ने वर्ल्ड कप में विजय शंकर के नंबर चार पर खेलने को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दे चुके है.

इसके अलावा दुनियाभर के कई क्रिकेटर्स ने वर्ल्ड कप में नंबर 4 पर खेलने को लेकर ऋषभ पंत और अंबाती रायडू को बेहतर विकल्प माना था.

लेकिन पांच सदस्यों की चयन समिति ने इन दोनों खिलाड़ियों को दरकिनार करते हुए विजय शंकर को चुना.

शंकर ने अपने ऊपर उठाएं जा रहे सवालों का जवाब देते हुए कहा कि वह सीख गए हैं कि दबाव मुक्त कैसे हुआ जाता है और अब उन्हें फर्क नहीं पड़ता कि कोई क्या कह रहा है.

शंकर ने अपने खेल के बारे में बात करते हुए यह भी कहा कि न्यूजीलैंड में जब मैंने नंबर तीन पर बल्लेबाजी की तो मेरा प्रदर्शन अच्छा रहा.

मेरे लिए सबसे अच्छी बात यह रही कि टीम मैनेजमेंट ने मुझ पर भरोसा जताया और माना कि मैं यह काम कर सकता हूं.

इससे आपको अतिरिक्त प्ररेणा मिलती है. टीम की जरूरत मेरी प्राथमिकता है और मैं हर स्थिति में खेलने को तैयार हूं.

मैं इस वक्त अपने खेल का भरपूर आनंद ले रहा हूं और अपने आप पर किसी तरह का दबाव नहीं ले रहा.

मैं स्थिति को समझने और उसके हिसाब से खेलने पर फोकस कर रहा हूं. मैं अपने काम को महत्व दे रहा हूं और इसको लेकर कोई छोटा रास्ता नहीं है.

विजय शंकर ने कहा कि मैं निश्चित तौर पर कहूंगा कि निदहास ट्रॉफी एक क्रिकेटर के तौर पर मेरे लिए जीवन बदलने वाला पल था.

अब उस बात को बीते हुए तकरीबन एक साल हो चुका है और हर कोई जानता है कि क्या हुआ था और वह कितना मुश्किल था.

मैंने तकरीबन 50 फोन कॉल लिए थे. मीडिया के लोग मुझसे फोन कर रहे थे और वही सवाल पूछ रहे थे.

यहां तक की सोशल मीडिया भी मेरे लिए मुसीबत बन गया था जिसकी वजह से मैं थोड़ा निराश भी हुआ और उससे बाहर निकलने में मुझे समय लगा.

इसके साथ ही शंकर ने यह भी माना कि दूसरी तरफ इन सभी चीजों ने मुझे सिखाया कि इस तरह की स्थिति को कैसे संभालना है और किस तरह से बाहर आना है.

उस वाकये से मुझे समझ आया कि एक दिन खराब होने का मतलब यह नहीं है कि दुनिया खत्म हो गई है.

मैं दुनिया में कोई अकेला ऐसा खिलाड़ी नहीं हूं जिसके साथ इस तरह का वाकया हुआ हो, यह बीते वर्षों में कई शीर्ष खिलाड़ियों के साथ हुआ है.

%d bloggers like this: