Tanhaji The Unsung Warrior रिव्यू : वीरता और देशभक्ति की अनोखी मिशाल

  • बॉक्स ऑफिस आज अजय देवगन की 100वीं फिल्म तानाजी द अनसंग वॉरियर रिलीज हुई है, जिसे ओम राउत ने डायरेक्ट किया है
  • तानाजी मालुसरे इतिहास के उन पन्नों को खोलती है जो वक्त की धूल में धूंले पड़ते जा रहे हैं. मराठाओं की उस वीरता को दिखाता है

फिल्म : तानाजी द अनसंग वॉरियर

डायरेक्टर : ओम राउत

स्टारकास्ट : अजय देवगन, काजोल, सैफ अली खान और शरद केलकर

स्टार : 3.5/ 5

बॉक्स ऑफिस आज अजय देवगन की 100वीं फिल्म तानाजी द अनसंग वॉरियर रिलीज हुई है, जिसे ओम राउत ने डायरेक्ट किया है. लीड रोल में अजय देवगन, काजोल, सैफ अली खान और शरद केलकर है.

कहानी

फिल्म की कहानी बेस्ड है सिहंगढ़ की लड़ाई पर, जो 4 फरवरी 1470 को हुई थी. इस लड़ाई के हीरो थे मराठा योद्धा तानाजी मालुसरे, जिनकी लाइफ को तानाजी में दिखाने की कोशिश की गई है और जिस तरह डायरेक्टर इस पूरी फिल्म को हिस्ट्री के पन्नों से जोड़ा है वो पूरी तरह तानाजी मालुसरे की बायोपिक से जस्टिस करती है.

तानाजी मालुसरे शिवाजी महाराज की सेना में सेनापति थे, लेकिन इस दौरान मुगलों की नजर कोंढाणा यानी की सिहंगढ़ पर पड़ती है, जिसके लिए मुगलों की तरफ कोढंणा पर कब्जा करने उदयभान सिंह पहुंचे, जो मुगलों की सेना में जनरल थे. कोंढणा को पाने के लिए तानाजी और उदयभान के बीच जंग हुई जिसे बैटल ऑफ सिहंगढ़ कहा जाता है.

तानाजी मालुसरे इतिहास के उन पन्नों को खोलती है जो वक्त की धूल में धूंले पड़ते जा रहे हैं. मराठाओं की उस वीरता को दिखाता है जिसकी मिशाले आज भी पूरी दुनिया देती है. देशभक्ति की मिठास के साथ मराठा रंग की महक वाली तानजी आपको 2020 में 1470 का भारत दिखाती है.

जब कहानी पहले से पढ़ी हुई होती है तो राइटर के लिए और भी मुश्किल हो जाता है आडियंस को हर पल कुछ नया दिखाना, लेकिन तानाजी में इस बात खास रियल रखा गया है आडियंस को हर सीन्स के ट्रेक्सचर में 1470 का भारत अपने सामने नजर आए.

फिल्म के फर्स्ट हाफ की बात करें तो फिल्म का फर्स्ट हाफ स्लो, उसकी वजह भी है, क्योंकि पहले पार्ट में आडियंस को कैरेक्टर्स को समझने का मौका दिया गया है, जो जरुरी भी है.

एक्टिंग

फिल्म में तानाजी के रोल में अजय देवगन कमाल है..अपनी 100वीं फिल्म में अजय का जज्बा देखने लायक है..बॉडी लेग्वेंज से लेकर शब्दों के उच्चारण तक हर एक एक बरीकी पर उन्होंने बेहतरीन काम किया है.

उदायभान के रोल में सैफ अली खान अजय को पूरी तरह टक्कर दे रहें है. सैफ का लुक और ओरा कुछ ऐसा नजर आता है कि जहां वो होते किसी और एक्टर नजर पड़ना भी मुश्किल है.

सावित्री बाई के रोल में काजोल को स्क्रीन स्पेस कम मिला है, लेकिन वो जितनी बार भी पर्दे पर नजर आई है, वो अपने कैरेक्टर के साथ जस्टिस ही करती है. शरद केलकर शिवाजी के रोल में शानदार है, पर उन्हें भी ज्यादा स्क्रीन स्पेस नहीं दिया गया है.

डायरेक्शन

ओम राउत के डायरेक्शन में बनी तानाजी द मालुसरे में पावरफुल एक्शन और कमाल के विजुअल इफेक्टस फिल्म की जान है.

फिल्म में सीजीआई का बेहतरीन यूज किया गया है, वहीं फिल्म में जो कुछ कमियां खलती है वो स्क्रिपिटंग और स्क्रीनप्ले की है हालांकि एक्र्टर्स ने अपनी दमदार एक्टिंग से इन कमियों को ढकने की पूरी कोशिश की है.

रिव्यू

ओवरओल तानाजी मालुसरे की वीर गाथा को बताती है ये फिल्म बेहतरीन है. अगर आपको पीरियड ड्रामा फिल्मों का शौक है तो यकीनन आप इसे देखने जा सकते हैं और अगर नहीं भी है तो आप एक बार तो इसे देख ही सकते हैं.

तानाजी के साथ 10 जनवरी को ही फिल्म छपाक और दरबार भी रिलीज हुई है और ये तीनों फिल्में ही अलग-अलग जोनर की है लेकिन बावजूद इसके तीनों के बीच तगड़ी टक्कर देखने को मिल रही है.

Trending News: Bollywood News | Bollywood News in Hindi | Tanhaji The Unsung Warrior

Leave a Reply

%d bloggers like this: