मोदी सरकार ने BLACK MONEY पर हासिल की बड़ी कामयाबी, Swiss Bank ने दी ये जानकारी

  • स्विस सरकार ने विदेशी बैंकों में कालाधन रखने वाले 50 भारतीय कारोबारियों के नाम भारत को दी है
  • स्विस सरकार भारत सरकार को इस बात की भी जानकारी देगी कि उसके यहां पर किसका और कितान पैसा जमा है

नई दिल्ली. मोदी सरकार जब से सत्ता में आई है तब से ही वो लगातार कालेधन (black money) पर शिकंजा कसने में लगी हुई है.सरकार अपनी तरफ से हर वो मुमकिन कोशिश करने में लगी हुई है जिसके जारिए स्विस बैंकों में पड़ा काले धन को भारत आ सके. मोदी सरकार की ये कोशिशे कामयाब होती नजर आ रही हैं.

स्विस सरकार करेगी ये काम-

स्विस सरकार (Swiss government) ने विदेशी बैंकों में कालाधन रखने वाले 50 भारतीय कारोबारियों के नाम और उनकी जानकारी भारत को सौपने की प्रकिया शुरू कर दी है.इसी के साथ स्विस सरकार भारत सरकार को इस बात की भी जानकारी देगी कि उसके यहां पर किसका और कितान पैसा जमा है.

इन शहर में रहते हैं लोग-

स्विस अधिकारियों के मुताबिक कालाधन जमा कराने वाले लोगों में ज्यादातर रियल एस्टेट (real estate), फाइनेंशियल सर्विसेज (financial services), टेक्नोलॉजी(technology) और टेलिकॉम (telecom), होम डेकोरेशन (home decoration), टेक्सटाइल (textiles),इंजिनियरिंग गुड्स (engineering goods), ज्वैलरी ((jewellery) से जुड़े कारोबारी और कंपनियां हैं.

इन नामों में ज्यादातर लोगों का नाम कोलकाता,गुजरात, मुंबई और दिल्ली के शहरों के लोगों को है.ये जानकारी दोनों देशों के बीच आपसी सहमति से दी जा रही है.इनमें से कुछ लोगों के नाम, कंपनियों के नाम और पता गलत या डमी भी हो सकती हैं.

Swiss banks ने दिया इतना समय

स्विस बैंक ( Swiss banks) ने नामों को सार्वजनिक करने से पहले जमा पैसों के बारे में सारी जानकारी खाताधारकों से मांगी हैं. इसी के साथ पैसों से जुड़े दस्तावेज दिखाने के लिए भी कहा है. इसके लिए बैंक ने भारत समेत कई विदेश जमाकर्ताओं तो नोटिस भेजा है. नोटिस में बैंक ने खाताधारकों को 30 दिन का वक्त दिया है. कुछ लोगों को तो बैंक ने जवाब देने के लिए सिर्फ 10 दिनों का ही वक्त दिया है.

बैंक ने जारी किए नाम के अक्षर-

स्विस सरकार ने अभी शुरूआती जांच और अपने कानून के तहत पूरे नाम को बताने की जगह शुरूआती अक्षर को सार्वजनिक किया है. जैसे एनएमए(NMA), एमएमए(MMA), पीएएस(PAS), आरएएस(RAS), एबीकेआई(ABKI), पीएम(PM), एडीएस(ADS), जेएनवी(JNV), जेडी(JD), एडी(AD), SS, RN, VL, UL, OPL, PM, PKK, और BLS. इसके अलावा खाताधारक की राष्ट्रीयता और जन्म तिथि भी बताई है.

बैंक ने जारी किए नाम-

स्विस बैंक ने कई खाताधारकों के पूरे नाम को सार्वजनिक किया है.इनमें कृष्ण भगवान रामचंद(Krishna Bhagwan Ramchand), कल्पेश हर्षद किनारीवाला(Kalpesh Harshad Kinariwala), पोतलूरी राजामोहन राव(Potluri Rajamohan Rao), कुलदीप सिंह ढींगरा(Kuldip Singh Dhingra), भास्कराण नलिनी(Bhaskaran Nalini), ललिताबेन चिमनभाई पटेल(Lalitaben Chimanbhai Patel), संजय डालमिया(Sanjay Dalmia), पंकज कुमार सरावगी(Pankaj Kumar Saraogi, ), अनिल भारद्वाज(Anil Bhardwaj), रतन सिंह चौधरी(Ratan Singh ) जैसे नाम शामिल हैं.

स्विट्जरलैंड सरकार ने कदम अपनी और स्विस बैंक की छवि को सुधारने के लिए किया है.सरकार को उम्मीद है कि इस कदम से उनके देश की छवि में काफी सुधार आएगा.

Trending tags – Business news | Economy News | International News | National News | Aaj ka Smachar

Leave a Reply