बीजेपी की राहुल द्रविड़ हैं सुषमा स्वराज

शेखर गुप्ता

सुषमा स्वराज जब राष्ट्रपति भवन के बाहर दर्शक दीर्घा की आगे से गुजर रही थीं तो पूरे माहौल में एक खामोशी भी छायी थी, कुछ फुसफुसाहट भी उभर रही थी. 

वे शपथ लेने जा रहे नए मंत्रियों के लिए बने भव्य मंच की तरफ न जाकर दर्शक दीर्घा की पहली कतार में जाकर बैठ गई थीं, हां तमाम गणमान्य हस्तियां बैठी थीं. 

उनके प्रशंसकों की विशाल जमात अब भी उम्मीद लगाए थी – नरेंद्नर मोदी इस सबसे लोकप्रिय मंत्री के बिना अपना दूसरा कार्यकाल भला कैसे शुरू कर सकते हैं?

सुषमा को अपने स्वास्थ्य को लेकर जो परेशानियां हैं वे कोई रहस्य नहीं हैं. वास्तव में उन्होंने ट्विटर पर यह जाहिर करके भारत में सार्वजनिक जीवन जी रहे व्यक्तियों से संबन्धित एक वर्जना को तोड़ा कि वे अपनी किडनी का प्रत्यारोपण करवा रही हैं. 

इसके बाद उन्होंने बहुत अच्छी तरह स्वास्थ्य लाभ भी किया. उनका रोग प्रतिरोधी तंत्र जबकि नई किडनी से तालमेल बैठा ही रहा था, उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान को जोरदार जवाब दिया.

दुनिया भर के विदेश मंत्रियों से मुलाक़ात की और अपनी एक सौम्यशालीन छवि बनाई. उनके होठों से एक भी बेमानी शब्द नहीं निकला, एक भी हल्की बात नहीं निकली, न ही गुस्से या हताशा का कोई प्रदर्शन उन्होंने किया.

तमाम देशों के अपने समकक्षों की तरफ हाथ बढ़ाकर उन्होंने कूटनीति की एक नई परिभाषा गढ़ी. उनके प्रतिद्वंद्वी व आलोचक यह कहकर मखौल उड़ाते रहे कि पूरी विदेश नीति तो मोदी ही चला रहे हैं और सुषमा के पल्ले तो बस ट्विटर पर पासपोर्ट-वीसा के मामले सुलझाना रह गया है.

ऐसा भी समय आया जब उन्हें विदेश में भारतीयों की ‘दुखहरणी आंटी’ कहा गया और उन्होंने इसका बुरा भी नहीं माना. मोदी कैबिनेट में किसी भी मंत्मोरी का वास्तव में कुछ बड़ा दांव पर नहीं लगा था.

लेकिन सुषमा के लिए चुनौती वाकई कठिन थी. प्रधानमंत्री दुनियाभर में प्रसिद्धि और गौरव कमा रहे थे, और वे बिना किसी परेशानी के उनके लिए रास्ता बना रही थीं. 

सुषमा के प्रति आकर्षण, उनकी हाज़िरजवाबी, उनके प्उरति मीडिया के प्रशंसाभाव में कोई कमी नहीं आई थी. और उनमें अनुभवी राजनीतिक नेताओं वाली नजर तो है ही जो दीवारों पर लिखी इबारत को समझ लेती है.

सो, उन्होंने कदम पीछे खींच लिये, नेपथ्नेय में चवी गई और मोदी के लिए प्रशंसा के सिवाय कभी कोई दूसरा भाव व्यक्त नहीं किया.

पूरा लेख पढ़ें युगवार्ता के 16 जून के अंक में…

3 thoughts on “बीजेपी की राहुल द्रविड़ हैं सुषमा स्वराज”

  1. Pingback: check that
  2. Pingback: 메이저사이트

Leave a Comment

%d bloggers like this: