बिहार के CM बोले- मुंबई में बिहार के IPS अधिकारी के साथ जो कुछ हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण है

Nitish Kumar
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

पटना, बिहार।

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमय मौत की जांच के मामले में अब बिहार सरकार और महाराष्ट्र सरकार आमने-सामने आ गई हैं. इस मामले की जांच करने महाराष्ट्र पहुंचे आईपीएस विनय तिवारी (IPS Vinay Tiwari) को जबरन क्वारंटीन कर दिया गया. वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उनके साथ जो हुआ वह गलत है. सुशांत मामले की जांच के लिए मुंबई गयी बिहार पुलिस की टीम का नेतृत्व करने गए पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को रविवार की रात अचानक 14 दिन के लिए क्वारंटीन कर लिया गया. इस दौरान वे घर से बाहर नहीं निकल सकते हैं.

इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि उनके साथ जो हुआ वह गलत है. यह राजनीतिक नहीं है, बिहार पुलिस ड्यूटी कर रही है. हमारे डीजीपी उनसे बातचीत करेंगे. हालांकि सीबीआई जांच कराए जाने पर उन्होंने कुछ नहीं कहा.

इस घटना पर बिहार सरकार के मंत्री व जदयू के कद्दावर नेता संजय झा ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है. इससे पहले जांच के लिए गए पुलिस अधिकारियों को क्यों नहीं क्वारंटीन किया गया? यह सबकुछ किसी के इशारे पर हो रहा है. इस तरह की घटना से मुंबई पुलिस शक के घेरे में आती है.

इस मसले पर जदयू नेता अजय आलोक ने कहा कि आईपीएस विनय तिवारी को 14 दिन के लिए क्वॉरंटीन कर लोगे आप उद्धव ठाकरे लेकिन सच्चाई को कोई क्वॉरंटीन नहीं कर सकता, उसे बाहर आना ही है. देख लीजिए इस कोशिश में कहीं आपको सबकुछ गंवाने की नौबत ना आ जाए ! संभल जाइए वक्त रहते लेकिन किसे बचा रहे हैं आप ? देश समझ रहा है.

इस मसले पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि कुछ भी हो जाए, जांच प्रभावित नहीं होगी. वे इस मसले पर महाराष्ट्र के डीजीपी से बात करेंगे तथा दोपहर 2 बजे पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे. सिटी एसपी को क़वारंटीन करने के मसले पर बीएमसी का कहना है कि उसने केंद्र सरकार की गाइड लाइन का पालन किया है, क्योंकि आईपीएस अधिकारी को जांच के सिलसिले में 7 दिन से अधिक मुंबई में रहना है.

हिन्दुस्थान समाचार/विभाकर