सुशांत की बेस्ट फ्रेंड ने सोशल मीडिया पर शेयर किया पोस्ट, उसे नहीं थी कैंप की परवाह, बना लिया था खुद का किंग्डम

sushant
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली: आज बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत तो हमारे बीच नहीं है लेकिन उन्हें लेकर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की बातें हो रही हैं. कोई कह रहा है कि उन्हें काम नहीं मिल रहा था, कोई कह रहा है कि वो नेपोटिज्म का शिकार हुए हैं. वहीं अब उनकी बेस्ट फ्रेंड रोहिणी अय्यर ने उनके नेचर को लेकर एक पोस्ट शेयर किया है.

रोहिणी ने सुशांत की पर्सनैलिटी के बारे में कई दिलचस्प बातें भी बताई हैं. वहीं उन्होंने उन लोगों की भी क्लास लगाई है जो कह रहे हैं कि सुशांत को काम नहीं मिल रहा था. रोहिणी ने अपने पोस्ट में लिखा ये बातें कही जानी जरुरी हैं. मेरा बेस्ट फ्रेंड अब नहीं रहा, मुझे अब भी इस सच को स्वीकार करने में मुश्किल हो रही है.

रोहिणी ने आगे लिखा जब भी मैं उससे जुड़ी खबरें जानने के लिए सोशल मीडिया चेक करती हूं तो मुझे सिर्फ फिक्शन पढ़ने को मिलता है. गप्पे मारने वाले लोग मिलते हैं. लोग जो अपने एजेंडा और नीतियों को प्रमोट कर रहे हैं. हर वो इंसान जो दो मिनेट के लिए फेम पाना चाहता है वो उसकी जिंदगी पर कुछ ना कुछ कह रहा है.

उन्होंने लिखा पहली बात तो ये कि उसे किसी के ओपिनियन और फेम से रत्ती भर फर्क नहीं पड़ता था. उसे इन लोगों से जरा सा भी फर्क नहीं पड़ता था जो आज ये प्रचार करते फिर रहे हैं कि वो उसके साथ टच में नही रह सके. उन्होंने लिखा मैं ये भी बता दूं कि उसे टच में रहने की परवाह नहीं रहती थी. उसे दिखावटी दोस्तों, फोन कॉल्स और छोटी-छोटी बातों से नफरत थी.  

View this post on Instagram

If you want to talk about him, celebrate his life. It was larger than life like the movies he aspired to make . Celebrate his work . He put his heart and soul into his craft , he was bothered more about research than make up . He was about quality not vanity . He was a bright star . That’s why he shined sheer magic. Celebrate his brilliance . He thrived for excellence , mediocrity affected him.He rejected anything conventional as easily as he rejected godfathers and big ticket films that he didn’t believe in. He didn’t take calls of the high and mighty if he didn’t want to . He didn’t care about money, I’ve seen him return pay checks worth crores . If he wanted to switch his phone off and go farming or fishing , he would . He broke every rule and burnt bridges sometimes just to light his way . Cos frankly my dear he didn’t give a damn . He was my best friend , my special son. He was my Mozart. He’s given me music , culture , art , stars , poetry, books and most importantly , memories. He didn’t care about most people or what they thought of him . I think he barely had three friends that he really cared about . I was one of them and for that I will always be thankful . He touched every single person’s life and path he crossed . Knowing Rajput was loving him. I just want everyone to know and remember him for the person he really was . Not this manufactured version the peddlers are trying to sell. Maybe he was too good for all of you . He was pure diamond . Maybe you all didn’t recognise that cos you are only used to plastic . You didn’t deserve him. He was intelligent beyond belief and some of you can barely read. And you know what ? He didn’t care about all of you or your dumb opinions then . He won’t care any less now . But I do . Protecting his legacy is important to me . So setting the record straight once and for all .

A post shared by Rohini iyer (@rohiniyer) on

सुशांत की बेस्ट फ्रेंड ने लिखा उसे तुमने अस्वीकार नहीं किया बल्कि उसने हमेशा तुम्हारी पार्टियों को नकारा था. उसे किसी तरह के कैंप की जरुरत नहीं थी, उसने अपना खुद का किंग्डम बना लिया था. वो एक असली फाइटर था. वो एक आउटसाइडर था उसे इनसाइडर होने की परवाह भी नहीं थी.

उन्होंने लिखा उसने कामयाबी को हमेशा अपने जूतों की नोंक पर रखा. वो कभी नाकाम नहीं हुआ. उसके साथ काम करने वाले स्टार्स से ज्यादा हिट फिल्में उसने दी. उसने कभी 100 करोड़ के क्लब की भी परवाह नहीं की. उसे किसी क्लब का हिस्सा बनने की कोई चाह नहीं थी. वो एक अवॉर्ड शो से इसलिए बाहर आ गया था क्योंकि वो बोर हो रहा था, वो भी उससे ठीक पहले जब उसके लिए बेस्ट एक्टर के अवॉर्ड की घोषणा की गई थी.”

वो कुदरत का एक करिश्मा था. उसकी कामयाबी को गिनना मुश्किल है. वो तो अपने आप में एक क्वांटम फिजिक्स था. प्लीज समझदार बनने और उसके टैलेंट को कमतर बताने की कोशिश मत करो, और न ही अपने एजेंडा को आगे बढ़ाने की.