वोटरों की कांग्रेस पर सर्जिकल स्ट्राइक

सुनील शुक्ला

लोकसभा चुनाव में जहां देशभर में पाकिस्तान पर हुई सर्जिकल स्ट्राईक की चर्चा रही तो हिमाचल में वोटरों ने कांग्रेस पर ही सर्जिकल स्ट्राइक कर दी. 2019 के जनादेश में हिमाचल में मोदी की सुनामी के आगे कोई भी नहीं टिक पाया. 

हिमाचल में भी वोटरों की सर्जिकल स्ट्राइक में कांग्रेस दूर-दूर तक नजर नहीं आई. आलम यह रहा कि हिमाचल में पहली बार भाजपा को सभी उम्मीदवार एक नहीं दो नहीं बल्कि तीन लाख से अधिक मतों से जीते हैं. 

कांगड़ा और मण्डी से भाजपा से उम्मीदवार चार लाख से अधिक वोटों से जीते. हमीरपुर से भाजपा को अनुराग ठाकुर तीन लाख 87 हजार मतों से रिकॉर्ड विजयी हुए. कांग्रेस के गढ़ शिमला को भी भाजपा ने अपने गढ़ में तब्दील कर लिया. 

यहां से भाजपा ने तीन लाख 27 हजार वोटों से जीत दर्ज की है. हमीरपुर में भाजपा ने जीत का चौका लगाया है तो शिमला में तीसरी बार लगातार जीत दर्ज की. 

मण्डी और कांगड़ा भी लगातार दूसरी बार भाजपा को खाते में गई. भाजपा ने चारों लोकसभा सीटों पर ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए लगातार दूसरी बार क्लीन स्वीप किया है. 

राज्य में सबसे बड़ी जीत कांगड़ा लोकसभा सीट से कैबिनेट मंत्री किशन कपूर ने दर्ज की है. इन्होंने कांग्रेस के पवन काजल को 4.77 लाख मतों से पराजित किया. 

मंडी सीट पर भाजपा के रामस्वरूप शर्मा ने कांग्रेस के आश्रय शर्मा को 4.05 लाख मतों से परास्त किया. इसी तरह हमीरपुर से कांग्रेस के रामलाल ठाकुर को 3.87 लाख मतों से हराकर भाजपा के अनुराग ठाकुर लगातार चौथी बार सांसद बने हैं. 

शिमला लोकसभा सीट से पहला चुनाव लड़ रहे भाजपा के सुरेश कश्यप ने कांग्रेसी दिग्गज धनीराम शांडिल को 3.27 लाख मतों से शिकस्त दी. चुनावी दंगल में कांग्रेस का कोई भी उम्मीदवार भाजपा को टक्कर नहीं दे पाया. यहां तक कि कांग्रेस अपने गढ़ में भी बढ़त नहीं ले पाई. 

Leave a Comment

%d bloggers like this: