सुशांत सिंह राजपूत केस: कोर्ट ने 3 दिन में सभी पार्टियों से मांगा जवाब, महाराष्ट्र सरकार को लगाई फटकार

sushant-singh-rajput1
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

सुप्रीम कोर्ट में आज रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुनवाई की गई. रिया ने पटना में उनके खिलाफ दायर एफआईआर को मुंबई पुलिस को ट्रांसफर करने के लिए याचिका डाली थी, जिस पर आज सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की.

जज ऋषिकेश रॉय की बैंच ने केस को ट्रांसफर किए जाने की मांग पर सभी पक्षों को तीन दिन के भीतर जवाब देने को कहा है। एक सप्ताह बाद फिर मामले की सुनवाई होगी जिस दिन फैसला सुनाया जा सकता है.

कोर्ट ने सुसाइड शब्द इस्तेमाल न करते हुए इसे unusual circumstances बताया है, जिसे इस केस में एक बड़ी जीत माना जा रहा है. कोर्ट ने ये भी कहा कि एक्टर की मौत का सच सामने आना चाहिए. कोर्ट की तरफ से ये भी कहा गया है कि मुंबई पुलिस इस केस की जांच कर रही थी, तो उन्हें एक मौका दिया जाना चाहिए कि वो अफिडेविट के साथ अब तक की जांच के बारे में कोर्ट को बताएं.

वहीं महाराष्ट्र सरकार की तरफ से अपनी दलील में कहा गया कि पटना पुलिस को इस केस की जांच का अधिकार नहीं है, इस पर सुशांत की फैमिली की तरफ से कहा गया कि मुंबई पुलिस सबूत मिटा रही है.

इन दलीलों पर जस्टिस ऋषिकेश राय ने कहा कि ” सुशांत काफी टैलेंटेड और उभरते हुए कलाकार थे और उनकी रहस्यमयी तरीके से मौत हो जाना चौंकाने वाला है. यह जांच का विषय है.” बता दें केंद्र सरकार के वकील ने कोर्ट में कहा कि केंद्र ने सीबीआई जांच की मांग स्वीकार कर ली है. जिस पर कोर्ट ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार इस पर जवाब दें. फिर हम तय करेंगे कि मामले की जांच कौन करेगा.

वहीं दूसरी तरफ रिया की तरफ से सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम सुरक्षा मांगी गई. जिसका सुशांत के पिता ने विरोध किया. सुशांत की फैमिली के वकील ने कहा रिया को किसी भी तरह से राहत नहीं मिलनी चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार पुलिस के ऑफिसर को क्वारंटाइन किए जाने पर भी निंदा प्रकट की. कोर्ट ने कहा कि “इसके बावजूद कि मुंबई पुलिस की पेशेवर प्रतिष्ठा अच्छी है, बिहार पुलिस ऑफिसर को क्वारंटाइन करने से अच्छा संदेश नहीं गया है.”