BS-4 वाहनों की बिक्री के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने FADA को लगाई फटकार

Supreme Court
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

सुप्रीम कोर्ट ने बीएस-4 वाहनों की बिक्री के मामले पर फेडरेशन ऑफ आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशऩ (फाडा) को फटकार लगाई. अदालत ने कहा कि हमारी ओर से दी गई रियायत का गलत फायदा उठाया गया है.

कोर्ट ने कहा कि हमने 1 लाख 5 हजार वाहनों की बिक्री और रजिस्ट्रेशन की इजाजत दी थी लेकिन लगता है कि दो लाख पचपन हजार वाहन बेचे गए. कोर्ट ने फाडा को निर्देश दिया कि वो 19 जून तक वाहनों की बिक्री और रजिस्ट्रेशन का विवरण दे.

अदालत ने परिवहन मंत्रालय को निर्देश दिया कि वो 27 मार्च को उसके आदेश के बाद बेचे गए या रजिस्टर्ड बीएस-4 वाहनों का विवरण दे. वहीं पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि जो स्टॉक बचा है, उसका 10 फीसदी लॉकडाउन खत्म होने के बाद दिल्ली-एनसीआर के बाहर बेचा जा सकेगा.

सुप्रीम कोर्ट ने 27 मार्च की सुनवाई में 1 अप्रैल से सिर्फ बीएस-6 गाड़ियों की बिक्री का आदेश दिया था. सुनवाई के दौरान आटोमोबाइल कंपनियों ने कहा था कि 7000 करोड़ रुपये का माल फंसा है. उसे बेचने की अनुमति दी जाए. जिसपर अदालत ने एक लाख 5 हजार वाहनों को बेंचने की इजाजत दी थी.  

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि 1 अप्रैल 2020 से देश में सिर्फ बीएस-6 गाड़ियों की बिक्री होगी. यानी 1 अप्रैल 2020 से केवल बीएस-6 वाली गाड़ियां का ही उत्पादन होगा.

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर ये बात बताई थी. पेट्रोलियम  मंत्रालय ने अलग तरह की गाड़ियों के लिए डीजल की अलग कीमत रखने के सुझाव को अव्यवहारिक बताया था.

हिन्दुस्थान समाचार/संजय