2 बागी विधायकों को झटका, ‘फ्लोर टेस्ट’ की याचिका पर SC का जल्द सुनवाई से इनकार…

नई दिल्ली. कर्नाटक के दो निर्दलीय विधायकों की जल्द फ्लोर टेस्ट करवाने की मांग को सुप्रीम कोर्ट ने जल्द सुनवाई से इंकार कर दिया है. विधायकों ने आज विधानसभा में विश्वास मत कराने का निर्देश देने के लिए याचिका दायर की थी.

वहीं आज कर्नाटक के स्पीकर केआर रमेश कुमार ने बागी विधायकों को 23 जुलाई को सुबह 11 बजे दफ्तर में मिलने को कहा है.

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार से समर्थन वापस लेने वाले 2 विधायक के आर शंकर और निर्दलीय एच नागेश सुप्रीम कोर्ट पहुंचे. उनका कहना है कि बहुमत खो चुकी सरकार सदन में वोटिंग टालने में लगी है. लिहाजा कोर्ट तत्काल बहुमत परीक्षण का आदेश दे.

मुकुल रोहतगी ने निर्दलीय विधायकों की तरफ से मामला उठाया तो CJI रंजन गोगोई ने कहा असंभव, आज सुनवाई नहीं हो सकती है.

कर्नाटक में जारी सत्ता संकट के बीच सोमवार को मुख्यमंत्री कुमारस्वामी सोमवार को सदन में बहुमत साबित कर सकते हैं. वहीं, रविवार को कांग्रेस-जेडीएस नेताओं के बीच सत्ता बचाने के लिए बैठक का दौर जारी रहा.

मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने रविवार को कांग्रेस-जेडीएस विधायकों के साथ ताज होटल में बैठक की. बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने फिर से कहा कि सोमवार को गठबंधन सरकार का आखिरी दिन होगा.

उधर, मुंबई में मौजूद बागी विधायकों ने कहा, हम यहां सिर्फ गठबंधन (कांग्रेस-जेडीएस) सरकार को सबक सिखाने के लिए आए हैं. इसके अलावा कोई दूसरा मकसद नहीं है.

कर्नाटक के संकटमोचक माने जाने वाले मंत्री डीके शिवकुमार ने गठबंधन सरकार बचाने के लिए आखिरी दांव चला दिया है.

बागी विधायकों को राजी करने के लिए सीएम कुमारस्वामी के स्थान पर किसी और मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है. डीके शिवकुमार का कहना है कि जेडीएस सरकार बचाने के लिए किसी भी तरह के त्याग के लिए तैयार है.

Leave a Reply