प्रशांत भूषण के खिलाफ 2009 के कोर्ट की अवमानना मामले में सुनवाई टली

Supreme Court
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली, 24 जुलाई (हि.स.). सुप्रीम कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण के खिलाफ 2009 के कोर्ट की अवमानना मामले की सुनवाई 4 अगस्त तक के लिए टाल दी है. कोर्ट ने सभी पक्ष के वकीलों के आग्रह पर सुनवाई टालने का फैसला किया है.

शुक्रवार को सुनवाई के दौरान वरिष्ठ वकील शांति भूषण ने कहा कि वे वर्चुअल कोर्ट में प्रभावी तरीके से अपनी बात नहीं रख पाएंगे. ये केस 2009 का है और करीब दस साल तक लंबित रहा है. इसलिए ओपन कोर्ट की सुनवाई शुरू होने तक इंतजार किया जाना चाहिए.

शांति भूषण इस मामले में पक्षकार बनाने की मांग कर रहे हैं. कोर्ट ने कहा कि वे शांति भूषण का अपने बेटे प्रशांत भूषण के प्रति स्नेह को समझ सकते हैं लेकिन उन्हें पक्षकार बनाने का कोई आधार नहीं है.

वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने कहा कि प्रशांत भूषण के पिछले वकील राम जेठमलानी थे. दस्तावेज तीन से चार वॉल्युम में हैं. इसलिए उसे पढ़ने में समय लगेगा. जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि इस मामले पर कोई न कोई बेंच किसी न किसी दिन सुनवाई करेगी.

इसी तरह 2009 में भी प्रशांत भूषण के खिलाफ कोर्ट की अवमानना का केस शुरू किया गया था. प्रशांत भूषण पर पूर्व चीफ जस्टिस एचएस कपाड़िया और केजी बालाकृष्णन के खिलाफ आरोप लगाने का मामला है.

हिन्दुस्थान समाचार/संजय/सुनीत/बच्चन