राफेल को पक्षियों से खतरा, अंबाला एयरबेस के आसपास ​कबूतर उड़ाने पर रोक

Rafale
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

अंबाला एयरबेस में तैनात फाइटर जेट राफेल को कबूतरों से खतरा है, इसलिए वायुसेना ने सुरक्षा के मद्देनजर हरियाणा के मुख्य सचिव को चिट्ठी लिखी. इस पर शहरी निकाय निदेशालय ने अंबाला एयरबेस के आसपास 10 किलोमीटर के दायरे में कबूतर उड़ाने पर रोक लगा दी है.

इसके साथ ही क्षेत्र में कबूतर उड़ाने वालों को नोटिस जारी करके कार्रवाई की चेतावनी दी गई है. दरअसल हरियाणा के अंबाला एयर बेस पर ही राफेल की तैनाती की गई है. ये एयरबेस धूलकोट, बलदेव नगर, गरनाला और पंजोखरा और राष्ट्रीय राजमार्ग 1-ए सहित गांवों से घिरा हुआ है. इन गांवों की आबादी से एयरबेस के आसपास उड़ने वाले कबूतर राफेल के लिये खतरा बन सकते हैं.

इसलिए सुरक्षा के मद्देनजर वायुसेना के एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह ने हरियाणा के मुख्य सचिव को चिट्ठी लिखी जिसमें अंबाला एयरबेस में तैनात राफेल विमानों के लिये उड़ने वाले पक्षियों को खतरा बताकर कार्रवाई करने को कहा.

एयर मार्शल की चिट्ठी के बाद शहरी निकाय निदेशालय ने वायुसेना के बेस के आस-पास के 10 किलोमीटर के दायरे में कबूतर उड़ाने वाले लोगों को नोटिस जारी करके कहा कि अगर कबूतर उड़ाए तो कार्रवाई होगी.

इससे पहले हरियाणा के अंबाला में अधिकारियों को भारतीय वायुसेना स्टेशन को उड़ाने की एक धमकी भरी चिट्ठी मिली थी, जिसकी अधिकारियों ने नजदीकी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी. पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि एहतियात के तौर पर अंबाला स्टेशन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं.

बता दें कि फ्रांस से 29 जुलाई को आये 5 फाइटर जेट राफेल के लिए अंबाला में 17 स्क्वाड्रन ‘गोल्डन एरोज’ बनाई गई है. इन राफेल विमानों को अब वायुसेना के बेड़े में औपचारिक रूप से शामिल करने के लिए 10 सितम्बर को अंबाला एयर फोर्स स्टेशन पर ही कार्यक्रम होना है.

फ्रांसीसी लड़ाकू राफेल की दूसरी खेप में 4 विमान अक्टूबर में एयरफोर्स डे के आसपास आने की उम्मीद है. 4 फाइटर जेट्स का यह दूसरा बैच भी अंबाला एयर फोर्स स्टेशन पर राफेल के लिए बनाई गई 17 स्क्वाड्रन ‘गोल्डन एरोज’ में पहुंचेगा.

हिन्दुस्थान समाचार/सुनीत