बिहार- कन्हैया कुमार के काफिले पर फिर हमला, लोगों ने फूंका मंच

Untitled
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. लोकसभा का चुनाव लड़ चुके और जेएनयू से नेता बन कर उभरे जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया आजकल बिहार की जनगणमण यात्रा पर हैं.. पर लगता है कि कन्हैया कुमार की ये यात्रा उनकी गले की फांस बन गई है.. वो जहां भी सभा करने के लिए जाते हैं कहीं उनके स्वागत में जूते चप्पल दिखाए जाते हैं…तो कहीं उनके विरोध में नारे लगाए जाते हैं…

कन्हैया कुमार को बिहार की अपनी यात्रा में समर्थन तो कम लेकिन विरोध ज्यादा देखने को मिल रहा है.. ज्यादातर जिलों में विरोध प्रदर्शन का सामना करना पड़ रहा है….वहीं, एक बार फिर से कन्हैया कुमार के काफिले पर हमला हुआ है….

बताया जा रहा है कि कन्हैया कुमार आरा पहुंचकर जनसभा को संबोधित करने वाले थे, लेकिन उनके आरा पहुंचने से पहले ही विरोधियों ने मंच को आग के हवाले कर दिया…. वहीं कन्हैया ने ट्वीट कर आरोप लगाया है कि विरोधियों ने उनके कार्यक्रम के मंच को आग लगा दी..

ईंट-पत्थर से किए गए हमले में कन्हैया की गाड़ी भी क्षतिग्रस्त हो गई है…. बताया जा रहा है कि कन्हैया आरा के रमना मैदान में सभा करने पहुंचे थे,,, इसी दौरान असामाजिक तत्वों ने उनके काफिल पर हमला कर दिया… काफिले में मौजूद लोगों ने भी उपद्रवियों पर पत्‍थर फेंके….जब पथराव नहीं रूका तो कन्हैया कुमार और उनके साथ मौजूद लोगों को वहां से जान बचाकर भागना पड़ा..

कन्हैया के काफिले पर कई बार हमले हो चुके हैं…. कन्हैया के काफिले पर अब तक सात बार हमला हो चुके हैं…अगर इस हमले को शामिल कर लिया जाए तो ये हमंला आंठवी बार है.. इससे पहले कन्हैया कुमार के काफिले पर मंगलवार यानी 12 फरवरी को बिहार के गया में हमला हुआ था… हमले के दौरान काफिले पर अंडा और मोबिल ऑयल फेंका गया था…

आपको बता दें कि सीपीआई नेता कन्हैया कुमार इन दिनों बिहार में सीएए, एनआरसी और एनपीआर के विरोध में ‘जन-गण-मन यात्रा’ पर हैं… एक महीने तक चलने वाली इस यात्रा के दौरान वे बिहार के लगभग सभी प्रमुख शहरों में पहुंचेंगे और करीब 50 सभाएं करेंगे….

कन्हैया ने इस यात्रा की शुरुआत 30 जनवरी को बेतिया से की थी…लेकिन कन्हैया जिस भी जिले में जा रहे उन्हें विरोध प्रदर्शनों का सामना करना पड़ रहा है…. शायद ही कोई ऐसा जिला बचा हो जहां कन्हैया के काफिले को विरोधियों ने निशाना नहीं बनाया हो…