मथुरा: श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर 75 दिन बाद खुला, श्रद्धालुओं ने किए ठाकुरजी के दर्शन

i
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

मथुरा, 08 जून (हि.स.). श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर 75 दिन बाद साेमवार को लोगों के दर्शन के लिए खोल दिया गया. श्रद्धालुओं को ठाकुरजी की एक झलक पाने के लिए थर्मल स्क्रीनिंग और हैंड वॉश करने के बाद ही मंदिर में प्रवेश मिल सका, लेकिन वृंदावन के बांकेबिहारी समेत अन्य प्रमुख मंदिरों में दर्शन के लिए भक्तों को अभी इंतजार करना होगा.

सोमवार को सरकार की गाइड लाइन का अनुपालन करते हुए श्रीकृष्ण जन्मस्थान मंदिर के द्वार खोल दिए गए. सुबह पौने सात बजे मुख्य गेट खुला. उसके बाद एक-दो श्रद्धालुओं के आने का क्रम शुरू हुआ. मंदिर के बाहर जन्मस्थान संस्थान द्वारा गोले बनाए गए थे, जिनमें श्रद्धालु खड़े होकर आगे बढ़े तो उन्हें प्रवेश से पूर्व थर्मल स्क्रीनिंग और हैंड वॉश करवाया गया. इस दौरान पुलिस की सुरक्षा पुख्ता नजर आई.

श्रीकृष्ण जन्मस्थान समिति के सचिव कपिल शर्मा ने बताया कि सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन को ध्यान में रखते हुए सोमवार से ’श्रीकृष्ण जन्मस्थान मंदिर’ श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिया गया है. मंदिर परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाएगा. हर रोज सुबह सात बजे से मंदिर में ठाकुरजी के दर्शन आम भक्त कर सकेंगे.

लेकिन वृंदावन के ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर 30 जून तक बंद रहेगा. मंदिर के उप प्रबंधक उमेश सारस्वत ने बताया कि न्यायालय के आदेशानुसार ही मंदिर खोलने का निर्णय लिया जाएगा. वहीं, इस्कॉन मंदिर 15 जून तक बंद रहेगा.

श्रीकृष्ण जन्मस्थान मंदिर में दर्शन के लिए गाइड लाइन
1- 10 वर्ष से कम और 65 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के साथ गर्भवती महिलाओं को मंदिर न जाने की सलाह.
2- दर्शनार्थियों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था के तहत सर्किल बनाना होगा.
3- एक बार में सिर्फ पांच लोगों के प्रवेश की अनुमति होगी. उनकी निकासी के उपरांत अन्य लोगों को प्रवेश दिया जाएगा.
4- दर्शनार्थियों के प्रवेश और निकासी की अलग-अलग व्यवस्थाएं होंगी. ठाकुरजी को नहीं छू सकेंगे.
5- प्रत्येक 30 मिनट बाद मंदिर परिसर को प्रबंधन द्वारा सैनिटाइज करना अनिवार्य होगा.
6- मंदिर परिसर में दर्शन के लिए लगने वाली लाइन के दौरान प्रत्येक दर्शनार्थी के बीच 6 फीट की दूरी होगी.
7- श्रद्धालुओं को आरोग्य सेतु तथा आयुष कवच कोविड ऐप का प्रयोग करने के लिए प्रेरित करें.
8- मंदिर में वेंटिलेशन एयर कंडीशनर का तापमान 24 से 30 डिग्री के मध्य होना चाहिए. आर्द्रता की सीमा 40 से 70 के मध्य होनी चाहिए. क्रॉस वेंटिलेशन का प्रबंध करना होगा.
हिन्दुस्थान समाचार/महेश/बच्चन