बाबरी विध्वंस केस में CBI की कोर्ट 30 सितंबर को सुनाएगी फैसला, आडवाणी-जोशी को हाजिर रहने का आदेश

LK advani-MM Joshi
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

अयोध्या में बाबरी (Babri Masjid) ढांचा गिराए जाने के मामले में सीबीआई (CBI) की विशेष कोर्ट 30 सितंबर को फैसला सुनाएगी. कोर्ट ने इस दिन सभी आरोपियों को अदालत में उपस्थित रहने का आदेश दिया है.

इस मामले में बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी (LK Advani) और मुरली मनोहर जोशी के अलावा 30 अन्य आरोपी हैं. कोर्ट में सभी आरोपियों के बयान दर्ज हो चुके हैं. 31 अगस्त तक इस मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है. और अब 30 सितंबर को अदालत पर अपना फैसला सुनाने वाली है.

मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, डॉ. मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, साध्वी ऋतंबरा, पूर्व राज्यसभा सांसद विनय कटियार सहित कई जाने पहचाने लोग आरोपी है. और सभी आरोपियों के बयान दर्ज करा दिए हैं. हालांकि इन सभी लोगों ने अपने ऊपर लगाए सभी आरोपों से इंकार किया है.

सभी आरोपियों का कहना है कि राजनीतिक साजिश के तहत उन्हें फंसाया गया है. बता दें कि 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद को ढहा दिया गया था. इस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत में सभी 32 आरोपियों के बयान सीआरपीसी की धारा 313 के तहत दर्ज किए जा चुके हैं.