डैमेज कंट्रोल में जुटा गांधी परिवार, नाराज आजाद को मनाने के लिए सोनिया ने किया फोन

raj
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. कांग्रेस कार्य समिति (Congress Working Committee) की बैठक में भी गांधी परिवार और सीनियर नेताओं में हुई तकरार अब बढ़ती जा रही है. जिसके बाद अब गांधी परिवार डैमेज कंट्रोल की कवायद में लग गया है. कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) से फोन पर बात की.

खबरों के मुताबिक उनसे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी गुलाम नबी आजाद को फोन किया था.जानकारी के मुताबिक सोमवार शाम को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गुलाम नबी आजाद से फोन पर बात की.हालांकि,अभी तक ये पता नहीं चल सका है कि दोनों नेताओं के बीच क्या बातचीत हुई है.फिर भी इस फोनकॉल की टाइमिंग को लेकर कयास लगाया जा रहा है कि गांधी परिवार किसी भी कीमत पर गुलाम नबी आजाद को नाराज नहीं करना चाहता.

गुलाम नबी आजाद राज्य सभा में विपक्ष के नेता के साथ संसद (Parliament) में कांग्रेस की दमदार आवाज भी हैं. एक महीने के अंदर ही संसद का मानसून सत्र शुरू होने वाला है. ऐसे हालात में कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व नहीं चाहता कि पार्टी की एकता को कोई भी खतरा हो या संसद में उनकी आवाज कमजोर पड़े.

बहरहाल, सोनिया और राहुल गांधी की ओर से गुलाम नबी आजाद को फोन करने को वरिष्ठ नेताओं और असंतुष्ट गुट को सुलह का संदेश भेजने के संकेत के तौर पर देखा जा रहा है.

CWC की बैठक से एक दिन पहले रविवार को पार्टी में उस वक्त नया सियासी तूफान आ गया, जब पूर्णकालिक और जमीनी स्तर पर सक्रिय अध्यक्ष बनाने और संगठन में ऊपर से लेकर नीचे तक बदलाव की मांग को लेकर सोनिया गांधी को एक चिट्ठी लिखे जाने की बात सामने आई. इस चिट्ठी में 23 वरिष्ठ नेताओं के साइन थे.

बता दें कि CWC की बैठक में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पार्टी में नेतृत्व के मुद्दे पर सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखने वाले सीनियर नेताओं पर निशाना साधा था. राहुल ने कथित रूप से आरोप लगाये कि ये सब बीजेपी के इशारे पर हो रहा है. गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल ने इस पर कड़ी नाराजगी जताई थी. राहुल गांधी के इस आरोप के बाद पार्टी के अंदर ही सियासी वबाल शुरू हो गया है.