कश्मीर घाटी में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से हुई पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी और मैदानी क्षेत्रों में हुई बारिश

श्रीनगर 27 नवम्बर (हि.स.). कश्मीर घाटी में भी पश्चिमी विक्षोभ बुधवार तड़के पूरी तरह से सक्रिय हो गया. इससे कश्मीर घाटी के अधिकांश इलाकों में बर्फबारी व बारिश हुई. बुधवार सुबह कश्मीर घाटी के पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी तथा मैदानी क्षेत्रों में बारिश हुई.

विक्षोभ का प्रभाव शुक्रवार शाम तक जारी रहेगा. शनिवार 30 नवंबर से मौसम में फिर से सुधार होने लगेगा. वहीं जम्मू संभाग में भी बुधवार को बारिश हुई. केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में मौसम से आए बदलाव से पारे मंें गिरावट आई है. घाटी के उच्च इलाकों के अन्य क्षेत्रों में भी बर्फबारी हुई जिनमें कुपवाड़ा, उड़ी, ज़ोजिला दर्रा, अमरनाथ गुफा, सोनमर्ग और गुरेज़ शामिल हैं.

कश्मीर घाटी में बर्फबारी होने से एक बार फिर बर्फ की चादर बिछ गई है जिसके चलते कश्मीर घाटी की हसीन वादियांे का नजारा देखते ही बनता है. इसके साथ ही ठंडी हवाओं का चलना भी जारी है.

श्रीनगर व इससे सटे इलाकों में दिन भर घने बादल छाए रहे. तापमान सामान्य से नीचे रहने के कारण शीतलहर भी महसूस की गई. वहीं जम्मू संभाग के उपरी इलाकों व मैदानी इलाकों में भी बुधवार को बारशि हुई. जम्मू मंे दिन भर आसमान में बादलों का घेरा बना रहा.

श्रीनगर-जम्मू हाईवे बुधवार को यातायात के लिए खुला रहा. इस बीच श्रीनगर-लेह हाईवे पर जोजिला दर्रे के निकट हुई करीब पांच की बर्फबारी के कारण यातायात के लिए आज भी बंद रहा. मार्ग के प्रभावित हिस्सों की मरम्मत तथा बर्फ को हटाने का काम जारी है. मार्ग की मरम्मत होते ही यातायात बहाल कर दिया जाएगा.

इसके अलावा पुंछ को कश्मीर से छोड़ने वाला मुगल रोड अभी भी बर्फबारी के कारण बुधवार को 22वें दिन भी बंद है. हालांकि यहां भी पीडब्ल्यूडी के कर्मचारी बर्फ हटाने का काम जारी रखे हुए हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/मोनिका/बलवान

Leave a Reply