पश्चिम बंगाल में भी आपातकाल जैसे हालात – राज्यपाल

Governor Jagdeep Dhankhar | Hindi News
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

कोलकाता . पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने आपातकाल की बरसी पर कहा है कि बंगाल में भी हालात आपातकाल से कम बदतर नहीं है.

आज सुबह राज्यपाल ने दो ट्वीट किया है उसमें उन्होंने लिखा है कि इमरजेंसी का काला दौर हमें कई चीजों पर ध्यान केंद्रित करने की याद दिलाता है. पहली‌ लोकतंत्र की महत्ता, दूसरी मानवाधिकार का मूल्य और तीसरी मीडिया की स्वतंत्रता की जरूरत.

अगर ममता बनर्जी नित पश्चिम बंगाल सरकार के शासन में स्थिति का आकलन करें तो पता लगेगा कि यहां भी हालात आपातकाल के जैसे हैं. सच्चाई यह है कि आपातकाल लोकतंत्र और मानवीय मूल्यों के लिए विनाशकारी है. लोकतंत्र स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के बिना नहीं पनप सकता है. मौन और वैज्ञानिक रिगिंग लोकतंत्र के विध्वंसक हैं. लोगों को फिलहाल इसके लिए एकजुट होकर इसके खिलाफ आवाज उठानी होगी. मुझे आपका समर्थन चाहिए.

25 जून 1975 को लगाया गया था आपातकाल

1975 में 25 जून को ही आधी रात के समय तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगा दिया था. विपक्ष के अधिकतर नेताओं को जेल में ठूंस दिया गया था और मीडिया पर सेंसरशिप लगा दिया गया था. सरकार की निन्दा करने वालों की गिरफ्तारियां होती थी और देशद्रोह की धाराओं के तहत मामले दर्ज किए जाते थे.

इसकी बरसी की पूर्व संध्या पर भी राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने 10 बिंदुओं पर एक बयान जारी किया था, जिसमें बंगाल के वर्तमान हालात की तुलना आपातकाल से की थी और उसके खिलाफ युवाओं को एकजुट होने का आह्वान किया था. अब गुरुवार को भी उन्होंने इसी तरह का बयान जारी किया है.

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश