“लद्दाख को मिले 500 करोड़ बनेगा र्आत्मनिर्भर”

Ladakh
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. भारत सरकार देश को आत्म निर्भरता की ओर ले जाने के लिए सतत प्रयास कर रही है. नरेंद्र मोदी सरकार का मानना है कि देश में सभी प्रदेश सशक्त और आत्मनिर्भर बनेंगे तो राष्ट्र मजबूत होगा. इसी दिशा में मोदी सरकार लगातार प्रयासरत है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना है कि भारत एक मजबूत और सशक्त राष्ट्र बने. प्रधानमंत्री मोदी का मानना है कि देश के दूरदराज और पूर्वोत्तर में स्थित प्रदेशों को इस दिशा में प्राथमिकता मिलनी चाहिए. इसी के तहत सरकार लद्दाख को सिक्किम की तरह जैविक प्रदेश बनाने जा रही है. इसके लिए केंद्र सरकार ने जो धनराशि जारी की है उसे कृषि बागबानी और कृषि गतिविधियों के लिए खर्च किया जाएगा.

मोदी सरकार ने लद्दाख को जैविक प्रदेश बनाने का रास्ता साफ कर दिया है. इस केंद्र शासित प्रदेश के लिए खास योजना चलाई जा रही है. इस योजना के तहत लद्दाख में जैविक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है.

लद्दाख को मोदी योजना के तहत मिशन ऑर्गेनिक डेवलपमेंट इनीशिएटिव को पूरा करने के लिए वित्तीय वर्ष 2020- 21 के लिए विशेष स्पेशल डेवलपमेंट पैकेज दिया गया है. इसके लिए सरकार तरफ से 500 करोड़ की धनराशि जारी कर दी गई है.

इसी योजना के तहत लद्दाख में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए एक विशेष कमेटी का गठन किया गया था जिसको सिक्किम भेजा गया था. इस कमेटी के आधार पर एक विशेष रिपोर्ट तैयार करी गई जिसके बाद केंद्र सरकार को जैविक मॉडल की रणनीति सौंपी गई.

“लद्दाख बनेगा आत्मनिर्भर”-
मोदी योजना को 2019 में लद्दाख ऑटोनॉमस हिल डेवलपमेंट काउंसिल लेह ने मंजूरी दी थी. इसमें फैसला लिया गया था कि साल 2025 तक लद्दाख को पूरी तरह से आत्मनिर्भर और जैविक बनाया जाएगा.

“लद्दाख में खेती की वर्तमान स्थिति”-
इस केंद्र शासित प्रदेश में मुख्य रूप से गेहूं जौ और राजमा उगाया जाता है.लद्दाख के वातावरण के अनुसार खेती के लिए कई तकनीक विकसित की गई हैं. जिनके आधार पर सब्जियों की पैदावार भी यहां शुरू हो गई है. लद्दाख में नदी के किनारे गर्म तापमान में होने वाले खरबूजा एवं तरबूज की खेती भी शुरू हो गई है.

हिंदुस्थान समाचार/ कर्मवीर सिंह तोमर