BRITAIN के इस कानून से सिखों को मिला ये अधिकार
  • ब्रिटिश गृह विभाग ने बताया कि कृपाण के मुद्दे पर उन्होंने सिख समुदाय के साथ करीबी रूप से बातचीत की है
  • ब्रिटेन के नए विधेयक को संसद से मंजूरी मिलने के बाद इस हफ्ते महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से भी हरी झंडी मिल गई है

ब्रिटेन में सिख समुदाय के लिए एक बड़ी खबर सामने आया है. ब्रिटेन में रह रहे सिख समुदाय के लोग अपने साथ कृपाण रख सकेंगे. ये नया कानून ब्रिटेन में हो रहे चाकू से हमले के बढ़ते अपराध से निपटने के लिए बनाया गया है. इसके लिए ब्रिटेन के नए विधेयक को संसद से मंजूरी मिलने के बाद इस हफ्ते महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से भी हरी झंडी मिल गई है.

ब्रिटिश गृह विभाग ने बताया कि कृपाण के मुद्दे पर उन्होंने सिख समुदाय के साथ करीबी रूप से बातचीत की है. इसके बाद विधेयक में संशोधन किया गया, ताकि ये सुनश्चित हो सके कि धार्मिक उद्देश्यों के लिए बड़े कृपाणों की आपूर्ति और उन्हें साथ रखने की परंपरा जारी रह सके.

दरअसल सिख धर्म की मान्यताओं के मुताबिक़ कृपाण रखना ज़रूरी होता है पर ब्रिटेन में रह रहे सिखों का कहना है कि कृपाण रखने की वजह से उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है.

आपत्तिजनक हथियार बिल 2018 ने इस हफ्ते हाउस ऑफ कॉमन्स में अपनी विभिन्न प्रक्रियायें पूरी की हैं और अब स्वीकृति के लिए हाउस ऑफ लॉर्ड्स में स्थानांतरित किया गया है. इस बिल का उद्देश्य आक्रामक हथियारों पर मौजूदा विधायी उपायों को मजबूत करना है.18 साल से कम उम्र के किसी भी व्यक्ति के लिए चाकू ऑनलाइन खरीदने और कुछ प्रकार के आग्नेयास्त्रों को प्रतिबंधित करने के लिए इस बिल को और कठिन बनाया जाएगा.

क्या है कृपाण का महत्व

गुरु गोविंद सिंह ने सिखों के लिए पांच चीजें अनिवार्य की थीं – केश, कड़ा, कृपाण, कंघा और कच्छा. इन सभी को सिखों को अनिवार्य तौर पर धारण करना चाहिए. कृपाण दो शब्दों से बना है ‘कृपा’ और ‘आन’. सिख धर्मानुसार, एक सिख के अंदर संत और सिपाही दोनों के गुण होने चाहिए.

वीरता और साहस की निशानी समझे जाने वाले कृपाण को सिख अक्सर कमर पर लटकाते हैं या फिर या फिर बैग आदि में रखते हैं. आजकल कृपाण की जगह छोटे-छोटे चाकू रखने का रिवाज है.

कृपाण या तलवार रखने की शुरुआत छठे सिख गुरु हरगोबिन्द सिंह ने की. उन्होंने सिखों को समाज या आसपास हो रहे अधर्म के खिलाफ आवाज उठाने के लिए तैयार रहने के लिए कहा. इसके बाद सिखों के लिए कृपाण रखना अनिवार्य कर दिया.

Trending Tags- International News| Britain News | Guru Hargobind Singh | Aaj ka Samachar

%d bloggers like this: