श्रावणी मेले का हुआ आगाज, चप्पे-चप्पे पर पुलिस की नजर

सावन की शुरुआत हो गई है. इस दिन से लेकर करीब सवा महीने तक भगवान शिव के भक्त कांवड़ में जल लेकर भोले के धाम में पहुंचते हैं और शिवलिंग पर जलाभिषेक कर मनोकामना पूर्ति की कामना करते हैं.

बैद्यनाथ धाम के साथ-साथ पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में स्थित तारकेश्वर में भी हर साल लाखों लोग जलाभिषेक करते हैं. इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं और युवा भी शामिल हो रहे हैं.


जलाभिषेक के लिए उमड़ने वाली भारी भीड़ को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा की व्यवस्था की है. इलाके में सीसीटीवी फुटेज और ड्रोन भी लगाए गए हैं. इसके अलावा विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने तारकेश्वर तक की राह में शिविर लगाए हैं. जिसमें बाबा धाम जाने वाले यात्रियों को रास्ते में भोजन, दवाईयां और अन्य जरूरत की चीजें मुहैया कराई जाती हैं.

मुख्यमंत्री ने दी श्रावणी मेले शुभकामनाएं

श्रावणी मेले के मौके पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य वासियों को शुभकामनाएं दी . बुधवार सुबह उन्होंने इस बारे में ट्वीट किया है. इसमें उन्होंने लिखा है कि आज से महीने भर चलने वाले श्रावणी मेले की शुरुआत हो रही है. तारकेश्वर धाम में यह मेला हर साल एक महीने तक चलता है. मैं सभी श्रद्धालुओं और भक्तों को इस मौके पर शुभकामनाएं दे रही हूं. मेरी प्रार्थना है कि भगवान भोले लोगों की सभी मनोकामनाएं पूरी करें. बम बम भोले.

सावन के मौके पर मंदिरो में उमड़ी भीड़

भगवान शिव जी की आराधना करने का महीना आज से शुरू हो चुका है. सावन भगवान शिव का प्रिय महीना माना जाता है.

सावन के शुरू होते ही खासतौर से शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है. सावन में मंदिरों में पूजा करने के लिए प्रत्येक इंसान को लाईनो में लगना पड़ा. सावन के मौके पर भक्तो ने भगवान शिव को जलाभिषेक कराया. ऐसा माना जाता है कि जो भी भक्त या श्रद्धालु सावन के महीने में शिवलिंग पर जल चढ़ाता है, उसी हर मनोकामना पूरी होती है.

सावन के चार सोमवार

  • 22 जुलाई को पहला सोमवार होगा
  • दूसरा सोमवार 29 जुलाई होगा
  • 5 अगस्त के दिन तीसरा सोमवार
  • चौथा सोमवार 12 अगस्त को होगा

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश

Leave a Comment